ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश अलीगढ़एस्टीमेट 80 मीटर 33 केवी केबिल का स्टोर से उठाया 800 मीटर

एस्टीमेट 80 मीटर 33 केवी केबिल का स्टोर से उठाया 800 मीटर

-क्वार्सी बिजली घर 33 के वी बोनेर पर केबिल बदलने को 80 मीटर बना था

एस्टीमेट 80 मीटर 33 केवी केबिल का स्टोर से उठाया 800 मीटर
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,अलीगढ़Mon, 24 Jan 2022 09:20 PM

-क्वार्सी बिजली घर 33 के वी बोनेर पर केबिल बदलने को 80 मीटर बना था स्टीमेट

-ठेकेदार ने अफसरों की की मिलीभगत से मांग पत्र पर दर्शाया गया था 800 मीटर केबिल

-मांग पत्र पर जेई से लेकर एक्सईएन तक के हैं हस्ताक्षर, स्टोर प्रभारी ने भी नहीं स्टीमेट नही देखा

-मामले की जानकारी पर चीफ ने बैठाई जांच, 720 मीटर तार गबन का सामने आया मामला

फोटो संख्या :

अलीगढ़, कार्यालय संवाददाता। विद्युत वितरण खंड द्वितीय में एक और मामला सामने आया है। मामला पुराना है, मगर सामने आते ही अधिकारियों के पांच तले जमीन खिसक गई। मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्य अभिंयता ने जांच बैठा दी। हुआ यूं कि क्वार्सी बिजली घर क्षेत्र के बोनेर के पास 80 मीटर 33 केबिल बदलने का एस्टीमेट जेई ने तैयार किया। ठेकेदार ने अधिकारियों से मिलीभगत कर स्टोर से मांग पत्र 80 मीटर केबिल को 800 मीटर दर्शा दिया। यही नहीं तत्कालीन स्टोर प्रभारी बिना एस्टीमेट देखे और मांग पत्र के आधार पर 800 मीटर 33 केबिल जारी कर दिया।

इंसेट

80 मीटर केबिल लगाया तो 720 मीटर केबिल नहीं चला पता

अलीगढ़। अधिकारियों और ठेकेदार की मिलीभगत से बिजली निगम के स्टोर से जारी कराया। इसके बाद एस्टीमेट के तहत बोनेर पर 80 मीटर 33 केबिल को बदलवा दिया। इसके बाद बचा हुआ 720 मीटर तार कहां गया विभागीय अधिकारी को नहीं पता।

इंसेट

शिकायत पर खड़े हुए विभागीय अधिकारियों के कान

अलीगढ़। क्वार्सी में तार घोटाले की शिकायत हरदुआगंज के एक व्यक्ति ने मुख्य अभियंता और अधीक्षण् अभियंता से की। ऐसे में मुख्य अभियंता ने ततकाल मामले को संज्ञान में लेकर एक्सईएन विद्युत वितरण द्वितीय को जांच सौंप दिया था। मगर कुछ ही दिनों बाद उन्होंने जांच स्थानांतरित कर माध्यमिक विभाग के एक्सईएन मगन प्रसाद को दे दिया था।

क्वार्सी बिजली घर में 33 केबिल गबन का मामला सामने आया है। इसकी जांच कराई जा रही है। इसमें दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उनसे रिकबरी भी कराई जाएगी। एसके जैन, अधीक्षण अभियंता, विद्युत वितरण खंड नगरीय

epaper