DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीबीआई मुकदमे के बाद एएमयू में खलबली

एएमयू के पूर्व वीसी जमीरउद्दीन शाह समेत दो संयुक्त वित्त अधिकारियों पर वित्तीय, प्रशासनिक और अकादमिक अनियमितता के आरोप में सीबीआई में मुकदमा दर्ज होने से कैंपस में गुरुवार को खलबली मची रही। सीबीआई इस मामले में जांच को जल्द कैंपस आएगी। इस मुकदमे में पूर्व वीसी शाह के घिरने अमुटा के खेमे खुशी है। अमुटा दो सालों से सीबीआई जांच की मांग कर रही थी। देहरादून सीबीआई ने पूर्व वीसी जमीरउद्दीन शाह, संयुक्त वित्त अधिकारी शाकेब अरसलान, मसूदउर रहमान समेत अन्य के खिलाफ आरोपों में मुकदमा किया है। लेकिन पूर्व वीसी बार-बार नकारते आ रहे थे कि उनके कार्यकाल में कोई गड़बड़ी नहीं हुई। सब नियम कायदे से हुआ। अब जब मुकदमा दर्ज हो गया है तो उन लोगों में ज्यादा बेचैनी है, जो फंस गए है। इसके अलावा ऐसे लोगों में भी खलबली मची हुई है, जो शाह के करीब रहे। उन्हें डर इस बात का है कि पड़ताल में परत दर परत खुली तो कहीं वह न फंस जाए। अमुटा का खेमा इस मुकदमे के दर्ज होने से खुश है। वह पूर्व वीसी शाह पर वित्तीय, प्रशासनिक अनियमितताओं के आरोप लगाते रहे। दाखिलों में गड़बड़ी के आरोप भी लगाए थे। अमुटा ने सबसे पहले वीसी शाह के कार्यकाल की जांच की मांग की थी। जो हो गई। अमुटा सचिव डॉ. सैयद मुस्तफा जैदी ने कहा कि अमुटा ने एक महिम की शुरूआत की थी, जो अंजाम तक पहुंची। अच्छी बात है। उन्होंने कहा कि सीबीआई पूर्व वीसी शाह के पूरे कार्यकाल की पड़ताल करे। मालूम होगा कि यह मामला बहुत बड़ा है। उन लोगों को भी सीबीआई को घेरना चाहिए, जो गड़बड़ी करने में साथी रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CBI trial begins in AMU