DA Image
25 जनवरी, 2020|1:29|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैंसर, हार्टअटैक और शुगर की घर बैठे होगी जांच

default image

अब ग्रामीणों को कैंसर, हार्ट अटैक, शुगर और बीपी समेत गन्य गैर संचारी रोगों के उपचार के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। सरकार ने नेशनल हेल्थ मिशन के तहत इन गंभीर बीमारियों से ग्रसित लोगों की पहचानकर उन्हें उपचार दिलाने की मुहीम शुरू कर दी। गुरुवार को से गैर संचारी लोगों के जांच के लिए अभियान शुरू हो गया है। जिले के 41 वेलनेस सेंटरों पर आशा के जरिए 30 साल से ऊपर के महिला-पुरुष की जांच की जाएगी। तेजी से पांव पसार रहे गैर संचारी रोगों को लेकर स्वास्थ्य महकमा गंभीर हो चला है। देखने में आ रहा है कि जो बीमारी 40 से 50 साल के दाम्यान लोगों को घेरती थी, वह अब 30 वर्ष या उससे पहले ही लोगों को चपेट में ले रहीं हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) ने 30 वर्ष से ऊपर सभी महिला व पुरुष को घेरने वाली गैर संचारी रोगों (हाईपरटेंशन, स्ट्रोक, डायबिटिज, कैंसर) के लिए 16 जनवरी से 15 फरवरी तक स्क्रीनिंग अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान में आशा का महत्वपूर्ण रोल रहेगा। आशा ही इन ग्रामीणों को वेलनेस सेंटर पर पहुंचाएगी और जांच होगा। इंसेटजिले के 41 हेल्थ एवं वेलनेस सेंटरों पर होगी जांचअलीगढ़। नेशलन हेल्थ मिशन के तहत जिले के 41 हेल्थ एवं वेलनेस सेंटरों महिला और पुरुष के स्वास्थ्य की जांच की जाएगी। इसमें तंबाकु से होने वाले मुंह के कैंसर, गर्भाशय कैंसर और स्तन कैंसर की जांच होगी। साथ ही शुगर, ब्लड-प्रेशर और हार्ट अटैक की भी जांच होगी। इन सेंटरों पर मौजूद सीएसचओ (कम्युनिटी हेल्थ आफिसर) और सब सेंटरों पर एएनएम जांच करेगी। इंसेटफैमिली फोल्डर व सी बैक फार्म भरेंगी आशाअलीगढ़। 30 वर्ष से ऊपर के लोगों के स्वास्थ जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग ने आशा, एएनएम और सीएचओ को प्रशिक्षित किया है। आशा कार्यकत्री की टीम फैमिली फोल्डर व सी बैक फार्म भरकर सेंटर पर जमा करेगी। इसमें मरीजों की जीवन शैली का पूरा ब्यौरा रहेगा। जैसे तंबाकू, शराब व अन्य नशीली पदार्थों का सेवन की जानकारी भरी जाएगी। वजन, उम्र और कमर की नांप भी ली जाएगी।

400 को दिया जा चुका है प्रशिक्षण

अलीगढ़। 30 साल से ऊपर के लोगों का गैर संचारी रोगों की जांच करने के लिए अभी तक 400 कर्मियों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। इसमें 214 एएनएम और 186 आशा कार्यकत्री है। इनमें से वेलनेस सेंटरों की एएनएम और आशा को एनसीडी माड्यूल की भी ट्रेनिंग दी जा चुकी है। एनसीडी माड्यूल का प्रशिक्षण लेनी वाली आशा व एएनएम को बेवसाइट परसमुदाय आधारित मूल्यांकन प्रपत्र (सी बैक) फार्म आन लाइन करना होगा। इंसेटयह दिया गया उपकरणगलूकोमीटर, बीपी इंस्टूमेंट, माउथ मिरर, टॉच आदि।

30 साल से ऊपर के सभी महिला व पुरुष गैर संचारी रोग की स्क्रीनिंग शुरू हो गई है। जिले के 41 सेंटरों पर जांच की जाएगी। इसमें शहर के आठ तो ग्रामीण क्षेत्र के 10 पीएचसी और 23 वेलनेस सेंटर पर प्रशिक्षित कर्मचारी स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे। इससे उनकी बीमारी का पता चल तो चलेगा ही साथ ही समय से उपचार होगा।

डॉ. एसपी सिंह, संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य विभाग

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Cancer heart attack and sugar will be investigated at home