DA Image
10 अगस्त, 2020|11:53|IST

अगली स्टोरी

विहिप अध्यक्ष रहे अशोक सिंघल के गांव मिट्टी जाएगी अयोध्या

default image

राम मंदिर आंदोलन को धार देने वाले विश्व हिन्दू परिषद के पूर्व अध्यक्ष स्व. अशोक सिंघल के गांव की मिट्टी भी अयोध्या जाएगी। विहिप के पूर्व अध्यक्ष का जन्म तहसील अतरौली के गांव बिजौली में जन्म हुआ था। मंदिर आंदोलन को धार देने में उनकी अहम भूमिका रही थी।

राममंदिर निर्माण के लिए चले संघर्ष में अलीगढ़ के लोगों का भी अहम योगदान रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह नाम मंदिर आंदोलन में प्रमुखता से लिया जाता है। उनका जन्म अतरौली के गांव मढ़ौली में ही हुआ। यहीं से उन्होंने मास्टर से लेकर मुख्यमंत्री तक का सफर पूरा किया था। दूसरा नाम विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल का है। वह भी जनपद की तहसील अतरौली के गांव बिजौली में जन्मे थे।

विहिप नेता सिद्धार्थ मोहन ने बताया कि एक बार एटा बैठक में जाना था। तो अशोक सिंघल को बाइक से लेकर गए थे, फिर, उनसे कहा गया कि फर्रुखाबाद तक लेकर चलो। सिद्धार्थ उस समय बजरंग दल में थे, युवा जोश था। सिंघल को लेकर फर्रुखाबाद पहुंच गए। वहां बैठक समाप्त हुई। अशोक सिंघल पर उस समय पहरा था। पुलिस-प्रशासन ने अयोध्या में उन्हें प्रतिबंधित कर रखा था। तय किया गया कि बाइक से उन्हें अयोध्या पहुंचाया जाए। सिद्धार्थ तैयार हो गए और बाइक से लेकर अयोध्या पहुंच गए। अब जाकर सपना साकार हुआ है।

0-विहिप कार्यालय में दर्शन को रखी गई रज

विश्व हिंदू परिषद की प्रांत उपाध्यक्ष योगेश बहन जी के नेतृत्व में श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए हिंदू पुरोधा अशोक सिंघल के पैतृक गांव बिजौली में उनके घर की पावन मिट्टी अयोध्या ले जाने के लिए कार्यकर्ता पहुंचे। परिवार से मुलाकात कर उनके घर की मिट्टी एवं बिजॉली के प्रसिद्ध शिव मंदिर की मिट्टी ली। शुक्रवार को अचल ताल स्थित विहिप कार्यालय पर पवित्र स्थान की मिट्टी को दर्शन के लिए रखा गया। इस दौरान सिद्धार्थ मोहन, प्रांतीय सह सेवा प्रमुख जगवीर, समरसता शशि बहन, प्रांतीय दुर्गा वाहिनी संयोजक, प्रांत सह संयोजक गोरक्षा ठाकुर केदार सिंह, विभागीय प्रकाश कशेरा, तिलक राजपूत, दीपक कसेर, सोनू राज आदि मौजूद थे।

0-भगवान सिंह हुए थे बलिदान

नगला जुझार क्षेत्र के गांव नगला बलराम निवासी जवाहर सिंह के पुत्र भगवान सिंह ने 1990 में अयोध्या में अपना बलिदान दिया था। वह आरएसएस कार्यकर्त थे। 1990 में वे परिवार वालों को बिना बताए ईंट लेकर अयोध्या चले गए थे। उस समय उनकी उम्र 23 साल थी। वहां गोली चली और उनकी मौत हो गई। 1992 में भाजपा नेता कलराज मिश्र ने गांव में उनकी प्रतिमा का अनावरण भी किया था। बजरंग दल महानगर अध्यक्ष गौरव शर्मा ने बताया कि उनके आवास से भी मिट्टी ली गई है। जो अयोध्या राम मंदिर निर्माण नींव में शामिल होगी।

0-दिल्ली गेट स्थित प्राचीन गुरुद्वारे से लिया अमृत जल

अलीगढ़।विश्व हिन्दू परिषद व बजरंग दल महानगर का एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को दिल्ली गेट स्थित प्राचीन गुरुद्वारे पर पहुंचा। प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व विहिप के महानगर का. अध्यक्ष शेखर शर्मा ने किया। प्राचीन गुरुद्वारा दिल्ली गेट पहुंचकर प्रतिनिधिमंडल ने प्रबंधक कमेटी के साथ अमृत गुरुवाणी सुनी एवं अयोध्या में प्रभु श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण हो इसको लेकर अरदास भी लगाई। और भूमि पूजन के लिए अमृत जल लिया जिसे अयोध्या भेजा जाएगा। महानगर संयोजक गौरव शर्मा ने बताया कि उत्तर प्रदेश में सर्वप्रथम गुरुद्वारा साहिब प्राचीन गुरुद्वारा दिल्ली गेट अलीगढ़ है। इस दौरान गुरुद्वारे के ज्ञानी महेंद्र सिंह, सेक्रेटरी हरमीत सिंह, प्रधान नरेंद्र सिंह ,कोषाध्यक्ष मनोज भीलवाड़ा, संजय भीलवाड़ा, सरदार दीप सिंह, विपिन सिंह, संजू सिंह, सतपाल सिंह द्वारा अरदास की गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ayodhya will go to the village of Ashok Singhal as VHP President