DA Image
19 जनवरी, 2021|7:46|IST

अगली स्टोरी

फर्जीवाड़े में हिरासत में लिए गए एआरटीओ प्रशासन

नागालैंड की गाड़ियों का फर्जी तरीके से पंजीयन करने के मामले में हरदोई पुलिस ने एआरटीओ प्रशासन बी प्रसाद को बुधवार देर शाम हिरासत में ले लिया। शाम को आरटीओ कार्यालय पर हरदोई पुलिस आई थी। पुलिस ने एआरटीओ प्रशासन से पहले पूछताछ की फिर अपने साथ हरदोई ले गई। एआरटीओ प्रशासन को हिरासत में लिए जाने पर अफसरों ने चुप्पी साध रखी है। आरटीओ ने कहा है कि हिरासत की जानकारी नहीं है, वह दो दिन की छुट्टी लेकर गए हैं।

एआरटीओ प्रशासन बी प्रसाद तीन महीने पहले हरदोई से स्थानांतरित होकर अलीगढ़ आए हैं। हरदोई में एआरटीओ प्रशासन पर नगालैंड की आठ गाड़ियों को फर्जी तरीके से पंजीकृत करने का आरोप लगा है। फर्जीवाड़े में हरदोई एआरटीओ विभाग का स्टेनो व पांच अन्य लोग इस रैकेट में शामिल हैं। फर्जीवाड़े की जांच हरदोई पुलिस कर रही है। बुधवार को हरदोई पुलिस एआरटीओ प्रशासन की तलाश में शाम चार बजे अलीगढ़ आई। जीटी रोड स्थित कार्यालय पर एआरटीओ प्रशासन से पूछताछ करने के बाद उनको साथ ले गई। हालांकि, आरटीओ विभाग के अधिकारी व कर्मचारी इस मामले पर कुछ बोलने से कतरा रहे हैं। एआरटीओ प्रशासन का सीयूजी मोबाइल नंबर शाम से ही बंद है। उन्होंने शाम तीन बजे तक कार्यालय में काम किया था।

नागालैंड से वेस्ट यूपी में फैला फर्जीवाड़े का जाल

हरदोई के बिलग्राम थाना क्षेत्र में जून माह में पांच ट्रक पकड़े गए थे। पांचों ट्रक पर एक ही चेसिस नंबर दर्ज था। पुलिस ने ट्रकों को सीज कर दिया था। पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा कायम किया था। मामले की जांच हुई तो सच्चाई सामने आ गई। आठ लोगों का गिरोह सक्रिय है, जो कि नागालैंड से ट्रक लाते हैं और उसको वेस्ट यूपी समेत अन्य जिलों में पंजीकृत करा देते हैं। 40 से 50 हजार में वाहनों के फर्जीवाड़े का खेल चल रहा है। हरदोई में आठ ट्रक फर्जी तरीके से पंजीकृत किए गए और उनको हरदोई का नंबर दे दिया गया।

एक दिन में पंजीकृत हुए पांच ट्रक

हरदोई में एक दिन में पांच ट्रक पंजीकृत हुए हैं। पांचों ट्रक नागालैंड से लाए गए थे और उनका फर्जी तरीके से कागज तैयार कर दिया गया। मामले की एआरटीओ प्रशासन बी प्रसाद ने बिना जांच किए आरसी जारी कर दी। पुलिस जांच में सामने आया है कि नागालैंड में उक्त ट्रकों कोई रिकार्ड नहीं है। मामले की जांच के लिए टाटा मोटर्स से भी पुलिस ने संपर्क किया तो पता चला कि चेसिस व इंजन नंबर फर्जी हैं।

पांच लोग पहले हो चुके हैं गिरफ्तार

ट्रकों के अवैध तरीके से पंजीयन कराने वाले रैकेट में पांच लोगों को हरदोई बिलग्राम थाने की पुलिस पांच लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। ल आठ लोग नामजद किए गए हैं। हरदोई एआरटीओ कार्यालय का स्टेनो भी इस मामले में शामिल है। मौजूदा समय में इस स्टेनो का स्थानांतरण वाराणसी कर दिया गया है। फर्जीवाड़े का मामला सामने आने के बाद शासन ने बी प्रसाद का तबादला अलीगढ़ कर दिया था।

इन्होंने कहा..

एआरटीओ प्रशासन के हिरासत में लिए जाने की जानकारी नहीं है। दो दिन के अवकाश का प्रार्थना पत्र दिया है, उनको किसी मामले की जांच में जाना था। गबन व अन्य किसी मामले की जानकारी नहीं है। शाम तीन बजे तक वह कार्यालय में मौजूद थे।

-राधेश्याम, आरटीओ अलीगढ़

हरदोई में फर्जी तरह से आठ ट्रकों के पंजीकृत करने का मामला पकड़ा गया था। एआरटीओ प्रशासन बी प्रसाद ने बिना जांच किए ही सभी को आरसी जारी कर दी। नागालैंड से वाहन लाए गए और एक दिन पंजीकृत किए गए। नियमों को ताक पर रख एआरटीओ प्रशासन ने काम किया है। बुधवार को अलीगढ़ आरटीओ कार्यालय से उनको हिरासत में लिया गया है। गुरुवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। 419, 420, 467, 468 , 471 व 120 आइपीसी की धारा के तहत मुकदमा कायम किया गया है।

-सतेंद्र कुमार, इंस्पेक्टर बिलग्राम हरदोई

हरदोई पुलिस आरटीओ कार्यालय आई थी। एआरटीओ प्रशासन के खिलाफ 420 का मामला था, जिनको कार्यालय से ही हरदोई पुलिस अपने साथ ले गई।

जितेंद्र दीखित, इंस्पेक्टर बन्ना देवी थाना अलीगढ़

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Alot's ARTO administration detained