DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसटीएफ की रडार पर मनोरंजन कर के कर्मचारी

मनोरंजन कर विभाग के कर्मचारी एसटीएफ की रडार पर हैं। छानबीन इस बात की हो रही है कि आखिर लाइसेंस देने में क्या खेल हो रहा था। लाइसेंस शुल्क के अलावा महीनेदारी भी बंधी हुई थी क्या। ऑन लाइन सट्टे के खिलाफ एसटीएफ की कार्रवाई से खलबली मची हुई है। सबसे ज्यादा आगरा से 15 लोग गिरफ्तार हुए थे।

नोएडा स्थित साइबर थाने में मुकदमा लिखा गया था। आगरा, सुल्तानपुर और इलाहाबाद में छापे मारे गए थे। संचालक सहित 17 आरोपियों को पकड़ा गया था। सभी को रविवार को जेल भेज दिया गया।

एसटीएफ ने यह मामला अभी ठंडे बस्ते में नहीं डाला है। ऑन लाइन सट्टे का खेल सिर्फ यूपी में नहीं चल रहा है। मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तराखंड में भी संचालकों ने पैर पसार रखे हैं। एसटीएफ ने वहां की पुलिस को भी अलर्ट कर दिया है। सभी जगह इसे बंद कराने की तैयारी है।

एसटीएफ ने मनोरंजन कर विभाग के क्लर्क विशाल सैनी को पकड़ा था। उससे पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिली हैं। दो साल पहले शहर में यह खेल चलता था। बाद में पुलिस ने बंद करा दिया था। सरकार बदलने के बाद दोबारा इसके सेंटर शुरू हुए थे। इस बार दो कंपनियों ने अपने सेंटर खोले थे। लक्ष्य इंडिया पुरानी थी। वी जैकपॉट के नाम से एक नई कंपनी बाजार में कूदी थी। इन्हें लाइसेंस किन शर्तों पर दिए जाते थे। कितनी फीस ली जाती थी। महीनेदारी भी बंधी हुई थी। यह पता लगाया जा रहा है। कार्रवाई ने मनोरंजन कर विभाग के कर्मचारियों के होश उड़ा दिए हैं। एसटीएफ अब किसे पकड़ेगी यह सोचकर हर कोई घबराया हुआ है।

वहीं दूसरी तरफ इस अवैध धंधे से जुड़े जो लोग बच गए थे वे भूमिगत हो गए हैं। उन्हें यह भय सता रहा है कि गिरफ्तार आरोपियों ने कहीं उनके नाम भी नहीं बता दिए हों। फिलहाल एसटीएफ अधिकारियों ने यह साफ नहीं किया है कि आगे क्या कार्रवाई करेंगे।

मुकदमे की विवेचना नोएडा के साइबर थाने से ही होगी। जांच के दौरान इस मुकदमे में और भी कई नाम बढ़ सकते हैं। इस तरह के संकेत अधिकारियों ने दिए हैं।

बच गए सफेदपोश

कई सेंटर संचालकों को सफेदपोशों का संरक्षण था। जब भी पुलिस उनके यहां दस्तक देती थी। वे सफेदपोश ही सिफारिश के लिए फोन करते थे। चर्चाओं का बाजार गर्म है। कुछ लोगों का कहना है कि एक नेता के रिश्तेदार का भी एक सेंटर चल रहा था। यह शाहगंज क्षेत्र में था। नेताजी का रिश्तेदार उस सेंटर में पार्टनर था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Worker of entirtainment at radar of stf