ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश आगराहाइवे के डिवाइडर पर रोपे पौधों का नामोनिशान तक नहीं

हाइवे के डिवाइडर पर रोपे पौधों का नामोनिशान तक नहीं

शहर से सोरों तक फोरलेन निर्माण के समय पर्यावरण संरक्षण व हाईवे के सौंदर्यीकरण के लिए डिवाइडर व सड़क के दोनों ओर पौधारोपण कराया गया...

हाइवे के डिवाइडर पर रोपे पौधों का नामोनिशान तक नहीं
हिन्दुस्तान टीम,आगराFri, 24 May 2024 09:25 PM
ऐप पर पढ़ें

शहर से सोरों तक फोरलेन निर्माण के समय पर्यावरण संरक्षण व हाईवे के सौंदर्यीकरण के लिए डिवाइडर व सड़क के दोनों ओर पौधारोपण कराया गया था। पीडब्ल्यूडी पर ही इन पौधों की सिंचाई का जिम्मा था। सिंचाई न होने से डिवाइडर पर लगे पौधे सूख चुके हैं। दोबारा पौधारोपण की किसी को सुध नहीं आई।

शहर से सोरों तक फोरलेन निर्माण के बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने जनपद में हरित क्षेत्र बढ़ाने के काफी प्रयास किए। वन विभाग ने डिवाइडर पर दो साल पहले 50 हजार पौधे रोपे थे। इसकी जिम्मेदारी नगर पालिका क्षेत्रों व ग्राम पंचायत पर डाली गई। इनके क्षेत्र में पौधों की सिंचाई की जानी थी, लेकिन अनदेखी के चलते पौधे सूखते चले गए। नतीजा कासगंज से सोरों के बीच डिवाइडर में लगाए गये पौधे सूख गए। बता दें कि जिले की सड़कों पर अभियान चलाकर पौधारोपण कराया। मथुरा-बरेली हाईवे से गुजरने वाले लोगों के दिमाग में जिले की छवि अच्छी बनाने के लिए पौधारोपण कराया। इस सड़क को अब एनएचएआई द्वारा अधिग्रहीत कर लिया गया है। डिवाइडर पर इन पौधों का अब नामोनिशान भी नहीं रह गया है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।