DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रीय अधिवेशन में नहीं आएंगे मुलायम सिंह!

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में संस्थापक, संरक्षक पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव शामिल नहीं होंगे। अब यह लगभग तय हो गया है। राज्य अधिवेशन में उनकी गैर मौजूदगी ने इस पर मुहर लगा दी है। पार्टी के नेताओं में भी अंदरखाने यही चर्चा है। वहीं अखिलेश यादव को दोबारा राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी मिलना भी तय माना जा रही है। आगरा के तारघर मैदान पर पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन पांच अक्टूबर को होना है। इसकी तैयारियों के लिए आलाकमान ने होर्डिंग्स के प्रारूप भेजे थे। इसमें मुलायम सिंह का फोटो नहीं था। यहीं से कलह फिर सतह पर आ गई। अगले ही दिन आलाकमान ने संशोधित प्रारूप जारी किया। इसमें भी मुलायम सिंह का फोटो लगाने की जगह नहीं छोड़ी गई थी। दूसरी ओर लखनऊ में 23 सितंबर को होने वाले राज्य अधिवेशन के होर्डिंग्स पर पार्टी ने मुलायम सिंह का बड़ा फोटो लगाया था। खुद पार्टी के अधिकृत ट्विटर अकाउंट और सपा सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के अकाउंट पर इसकी फोटो पोस्ट की गई थीं। इसके बाद पार्टी स्तर से साफ किया गया कि लखनऊ जैसे होर्डिंग आगरा में भी लगाए जाएंगे। इन पर पार्टी संस्थापक मुलायम सिंह का बड़ा फोटो रहेगा। इस संशोधन के बाद माना जा रहा था कि मुलायम सिंह राज्य अधिवेशन में शामिल हो सकते हैं। हालांकि ऐसा हुआ नहीं। लखनऊ अधिवेशन में मुलायम के करीबी सिर्फ आजम खां ने ही भाग लिया। उन्होंने आजीवन अखिलेश यादव का साथ देने का वादा भी किया। सैफई परिवार की युवा पीढ़ी भी अधिवेशन में मौजूद रही। अब माना जा रहा है कि मुलायम राष्ट्रीय अधिवेशन में भी नजर नहीं आएंगे। हालांकि होर्डिंग पर उनके फोटो को लेकर कोई विवाद नहीं रह गया है। होर्डिंग पर मुलायम और अखिलेश के बराबर साइज को फोटो लगाए जाएंगे। सजावट की जिम्मेदारी सौंपी राष्ट्रीय अधिवेशन के लिए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने आगरा के कार्यकर्ताओं सजावट की जिम्मेदारी सौंपी है। श्री पटेल ने राजामंडी क्षेत्र में सजावट का जिम्मा तीन लोगों को दिया है। इनमें समाजवादी युवजन सभा के पूर्व जिलाध्यक्ष विवेक यादव, एत्मादपुर के पूर्व ब्लाक प्रमुख अशोक यादव और खांडा के दिनेश यादव शामिल हैं। लखनऊ अधिवेशन में भाग लिया आगरा से तमाम समाजवादियों ने लखनऊ के राज्य सम्मेलन में हिस्सा लिया। इनमें प्रमुख रूप से जिलाध्यक्ष रामसहाय यादव, महानगर अध्यक्ष रईसुद्दीन, उपाध्यक्ष पप्पू राघव, छात्रसभा महानगर अध्यक्ष निर्वेश शर्मा, मीडिया प्रभारी सौरभ गुप्ता, सुरेन्द्र चौधरी, रिजवानुद्दीन (प्रिंस), मुकेश सिटी, ममता टपलू, श्याम भोजवानी, मनोज गुप्ता, अमीर सिंह फौजदार, मनमोहन शर्मा, गौरव जैन, जफरुद्दीन आसिफ, विशाल सिंह, सुभाष कुशवाह, मुन्ना भाई, मोनू खआन, हेमंत सविता, जमील खान, भगवती यादव, विनोद श्रोत्रिय, विजय ठाकुर गए थे। सपाइयों ने दोबारा प्रदेश अध्यक्ष चुने जाने पर नरेश उत्तम पटेल का स्वागत कर बधाइयां दीं। अलग पार्टी की चर्चाएं भी तेज पांच अक्टूबर को पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेश है। इसी दिन मुलायम सिंह या शिवपाल यादव की ओर से नई पार्टी का एलान किए जाने की चर्चाएं भी तेजी पर हैं। पार्टी में अंदरखाने यह मसला गर्मा रहा है। हालांकि जिम्मेदार पदाधिकारी इससे इन्कार करते हैं। महानगर अध्यक्ष रईसुद्दीन कहते हैं कि पहले भी पार्टी के दो फाड़ होने की बातें उड़ाई गई थीं। हुआ कुठ भी नहीं। जिलाध्यक्ष रामसहाय यादव ने बताया कि पार्टी में कोई मतभेद नहीं है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के हाथों में कमान रहेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sp,