DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनपूरक बजट से तीर्थ नगरी को लगी मायूसी हाथ

अनपूरक बजट से तीर्थ नगरी को लगी मायूसी हाथ

यूपी सरकार के अनपूरक बजट में भी तीर्थ नगरी सोरों को नजरंदाज किये जाने से लोगों में मायूसी है। सोरों के विकास के लिए प्रशासन की ओर से भेजी गई कार्य योजनाओं के लिए अभी तक बजट नहीं मिला है। इससे कार्य योजनाएं अटकी पड़ी हैं। जबकि जिला प्रशासन की ओर से लगातार शासन में पैरवी की गई है।

विगत वर्ष मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के एटा के आगमन के दौरान उन्होंने सोरों तीर्थ को पर्यटन विकास के रूप में विकसित करने का ऐलान किया था। जिस पर प्रशासन ने कंसलटेंसी नियुक्त कर आइमन कंसलेंटसी से योजनाएं तैयार कराई थी। जिन्हें 96 करोड़ की अनुमानित लागत का प्लान बनाकर भेजा था, लेकिन इसे बजट नहीं मिला। जबकि डीएम चन्द्रप्रकाश सिंह और चेयरमैन मुन्नी देवी भी शासन में पैरवी करने में लगी हैं।

फिर अलग-अलग पार्ट में भेजा प्लान

सोरों नगर पालिका के ईओ संतराम कहते हैं, कि शासन में वार्ता होने पर शासन की ओर से छोटे-छोटे पार्ट में कार्य योजना भेजने के लिए कहा गया था, जिस पर 16 करोड़ का एक अलग से भेजा गया, जिसके मंजूरी के लिए आश्वासन मिला है, तब से शासन से बजट को लेकर इंतजार है।

इन प्रमुख स्थलों के हैं प्लान

पर्यटन कार्य योजनाओं में प्रमुख रुप से हरिपदी गंगा के सौंदर्यीकरण, घाटों के पुनरुद्धार, लहरा गंगा पर पक्के घाट, मंदिरों के आसपास की सुविधाएं, एक स्तंभ, ऑडीटोरियम एवं परिक्रमा मार्ग के सौंदर्यीकरण समेत कार्य शामिल किये गये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Soron get nothing in budget