DA Image
24 जनवरी, 2021|8:12|IST

अगली स्टोरी

जमीन के विवाद में जानलेवा हमले के मामले में सात वर्ष की सजा

default image

कोतवाली क्षेत्र के नगला भूड़ में 10 वर्ष पूर्व जमीन विवाद के चलते दो लोगों पर हुए जानलेवा हमले में एडीजे कोर्ट द्वितीय ने आरोपी को सात वर्ष की सजा और 15 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया है। अर्थदंड न देने की स्थिति में दोषसिद्ध आरोपी को तीन माह की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।

पुलिस के अनुसार नगला भूड़ गांव में 20 मार्च 2010 को शाम नौ बजे जितेंद्र सिंह अपने मकान भूमि में नीम लगा रहा था। उसी समय गांव का ही हरप्रसाद पुत्र बुद्धसेन अपनी लाइसेंसी बंदूक लेकर आ गया और जितेंद्र को नीम लगाने से रोकने लगा। जितेंद्र ने जब इसका विरोध किया तो हरप्रसाद ने बंदूक से उसके ऊपर फायर कर दिया। जिसमें जितेंद्र व संतोष के छर्रे लगे। इस मामले में हरप्रसाद को जानलेवा हमले की धाराओं में नामित किया गया। कासगंज कोतवाली पुलिस ने इस मामले में हरप्रसाद के विरुद्ध जानलेवा हमले की धाराओं में आरोप पत्र कोर्ट में दाखिल कर दिया। एडीजे कोर्ट द्वितीय धीरेंद्र कुमार ने इस मामले की सुनवाई की। दोनों पक्षों को सुनने के बाद एडीजे कोर्ट ने हरप्रसाद को जानलेवा हमले की धाराओं का दोषी पाया और सात वर्ष की सजा सुनाई है। आयुध अधिनियम की धाराओं में भी दो माह की सजा और दो हजार रुपये जुर्माना लगाया है। कोर्ट के आदेश में कहा है कि सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी और आरोपी के द्वारा जेल में बिताई अवधि सजा में शामिल की जाएगी। इस मामले में पीड़िप पक्ष की ओर से डीजीसी क्रिमिलन संजीव सिंह यदुवंशी ने कोर्ट के सामने पक्ष प्रस्तुत किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sentenced to seven years in the case of murder in land dispute