DA Image
30 नवंबर, 2020|7:55|IST

अगली स्टोरी

समझौते के लिए बुलाकर रानी के सिर में मारी थी गोली

default image

अबु उलाह दरगाह मार्ग (न्यू आगरा) पर शनिवार को रानी के सिर में गोली उसके पति याकूब ने ही मारी थी। वह कई दिन से हत्या की योजना बना रहा था। वारदात से चार घंटे पहले उसका परिवार सामान लेकर घर से फरार हो गया था। इस वजह से एक भी हत्यारोपी अभी पुलिस के हाथ नहीं आया है। पुलिस उनकी तलाश में दबिश दे रही है।

तोपाखाना, नाई की मंडी निवासी रानी की दिनदहाड़े हत्या की गई थी। वह दीवानी में तारीख पर गई। वहां से दरगाह मार्ग गई थी। पुलिस आशंका जता रही थी कि वह जियारत के लिए गई होगी। छानबीन में पता चला कि योजना के तहत उसके पति याकूब ने ही उसे दरगाह मार्ग पर बुलाया था। दीवानी से नाई की मंडी के बीच रास्ते पर भीड़ रहती है। एमजी रोड के सभी चौराहों पर पुलिस रहती है। एमजी रोड पर हत्या मुश्किल थी। इसलिए पति ने समझौते के लिए पत्नी को वहां बुलाया था। एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि पुलिस को सीसीटीवी फुटेज मिले। रानी के परिजनों ने उन्हें देखा। बताया कि स्कूटर पर पीछे याकूब ही बैठा है। पीछे बैठे युवक ने ही रानी के सिर में गोली मारी थी। यह जानकारी प्रत्यक्षदर्शियों ने दी थी। एसपी सिटी ने बताया कि शव की पहचान होते ही पुलिस ने तेलीपाड़ा लोहामंडी में याकूब के घर दबिश दी थी। पड़ोसियों ने बताया कि सुबह करीब दस बजे परिवार के सभी लोग यहां से चले गए। जाते समय वे घर का सामान भी ले गए थे। घर में अब थोड़ा बहुत सामान रह गया होगा। इस जानकारी के बाद पुलिस को पूरा यकीन हो गया है कि यह वारदात साजिश के तहत की गई।

समर्पण कर सकता है हत्यारोपी पति

पुलिस अंदाजा लगा रही है कि हत्यारोपी पति याकूब पुलिस से बचने के लिए समर्पण करेगा। इसलिए पुलिस ने दीवानी पर पहरा बैठा दिया है। याकूब के खिलाफ जितने भी पुराने मुकदमे हैं उनकी भी जानकारी जुटा ली गई है। ताकि वह किसी दूसरे मामले में समर्पण नहीं कर सके।

पुलिस को सेट करने में माहिर है हत्यारोपी

लगभग डेढ़ साल पहले रानी की हत्या का प्रयास हुआ था। उसे अधमरा करके नाले में फेंका गया था। पुलिस ने सही समय पर पहुंचकर उसे बाहर निकाला था। उस समय जगदीशपुरा थाने में याकूब और उसके परिजनों के खिलाफ मुकदमा लिखा गया था। विवेचक ने जानलेवा हमले की धारा बढ़ाई थी। याकूब ने दरोगा से बड़े अधिकारी को सेट करके धारा 307 हटवा दी थी। उस समय याकूब और उसके परिजन जेल गए थे। जानलेवा हमले की धारा हटने के बाद मुकदमे की हवा निकल गई थी। रानी को पहले से यह आशंका थी कि पति उसे किसी भी दिन मार सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Rani was shot in the head by calling for a settlement