ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश आगराराम खड़े हैं धनुष लेकर, अब वंशी बजने वाली है......

राम खड़े हैं धनुष लेकर, अब वंशी बजने वाली है......

काशी बदली, अयोध्या बदली अब मथुरा की बारी है, लेकर धनुष राम खड़े हैं, वंशी बजने वाली है......इस भजन की प्रस्तुति ने श्रोताओं को खड़े होकर जय श्रीराम,...

राम खड़े हैं धनुष लेकर, अब वंशी बजने वाली है......
हिन्दुस्तान टीम,आगराThu, 22 Feb 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

काशी बदली, अयोध्या बदली अब मथुरा की बारी है, लेकर धनुष राम खड़े हैं, वंशी बजने वाली है......इस भजन की प्रस्तुति ने श्रोताओं को खड़े होकर जय श्रीराम, जय श्रीराम बोलने को मजबूर कर दिया। ताज महोत्सव ¸में बुधवार को सूरसदन में भजन संध्या के दौरान अनूप जलोटा ने अपने चिर-परिचित अंदाज में भजनों का गायन किया।

ऐसी लागी लगन, मीरा हो गई मगन को जब अनूप जलोटा ने स्वर दिया तो भक्ति की एक अलग धारा बहने लगी। महोत्सव की चौथी रात शास्त्रीय संगीत के शिखर साधक अनूप जलोटा के नाम रही। उनके सुर, लय, तान श्रोताओं के लिए कर्ण प्रिय रहे। उनके संगीत के हर रियाज में भक्ति की अविरल गंगा देर रात तक बही। मंच पर आते ही जलोटा ने आगरा की पावन धरा को अदब के साथ नमन किया। उन्होंने कहा कि आगरा का शहर ही संगीत और संस्कृति के शौकीनों का है। यहां हर कलाकार को मंच ही नहीं सम्मान भी उतना ही मिलता है। सांस्कृतिक संध्या की शुरूआत से लेकर आखिर तक उपस्थिति रही भीड़ उनके गायन की इस कला की मुरीद बन गई। है आंख वो जो श्याम का दर्शन किया करे, है शीश तो प्रभु चरण में नमन किया करे. सुनाकर उन्होंने लोगों को भक्ति में डूबने पर विवश कर दिया। अच्युतम केशवम कृष्ण दामोदरम, राम नारायणम जानकी वल्लभनम भजन की प्रस्तुति पर लोगों के मन मयूर नृत्य करने लगा। उन्होंने देर रात तक श्रोताओं को रिझाए रखा। कौन कहता है भगवान आते नहीं, तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं... भजन पर लोग झूमते रहे। निर्गुण रस के भजन तेरे मन में राम मेरे मन में राम, रोम-रोम में राम रे, माया में तू उलझा-उलझा... भी खूब सराहा गया। बचपन बीता खेल-खेल में, भरी जवानी सोया, देख बुढापा अब क्या सोचे क्या पाया क्या खोया. भजन की प्रस्तुति को लोगों ने तालियां बजाते हुए सुना। भजनों की समाप्ति के बाद उनके उत्साहवर्धन के लिए लोगों की तालियों की गूंजती रहीं। वहीं बीच-बीच में उन्होंने राम मंदिर पर भी खुशी जाहिर की। सांसद राजकुमार चाहर ने उन्हें पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम में शहर के समस्त गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें