DA Image
8 अगस्त, 2020|2:12|IST

अगली स्टोरी

जियो सेल तकनीक से रेलवे रोकेगा रेल दुर्घटनाएं

default image

आगरा। वरिष्ठ संवाददाता

रेलवे ने नदियों पर बने पुल के किनारे मिट्टी कटान से होने वाली संभावित दुर्घटनाओं को रोकने के लिए नई तकनीक ईजाद की है। इस तकनीक को जियो सेल का नाम दिया गया है। तकनीक से ढलान की मिट्टी को मजबूत बनाए रखने में सफलता मिली है। आगरा मंडल में स्ट्रेची ब्रिज से यमुना ब्रिज रेलवे स्टेशन के बीच तकनीक का पहला प्रयोग किया गया है।

रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग को यमुना नदी पर काफी ऊंचाई पर बने स्ट्रेची ब्रिज के यमुना ब्रिज रेलवे स्टेशन की तरफ वाले छोर पर पटरी किनारे मिट्टी कटान की चिंता सताती रहती थी। स्ट्रेची ब्रिज रेलवे के आम पुलों से काफी ऊंचा है। परंतु जियो सेल तकनीक ने रेलवे की चिंता खत्म कर दी है। ब्रिज के पास करीब 50 मीटर तक जियो सेल तकनीक के माध्यम से मिट्टी कटान रोकने का काम पूरा होने के करीब है। मजबूत फाइबर के तीन-तीन इंच के खांचों की बड़ी सी श्रंखला को जमीन में बिछाकर उसे मिट्टी से भर दिया गया है। इसके बाद उसके ऊपर घास लगा दी है। बारिश के मौसम में जैसे-जैसे घास बड़ी होगी, पटरी के आसपास की मिट्टी कटना बंद हो जाएगी। ठेकेदार विकास का कहना है कि जियो सेल तकनीक में इस्तेमाल फाइबर बहुत उच्च क्वालिटी की होती है। इसका कभी भी कुछ नहीं बिगड़ता।

जियो सेल तकनीक से हम मिट्टी कटान से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने में सक्षम होंगे। यह बहुत अच्छी व सस्ती तकनीक है। आगरा मंडल में पहली बार इसका इस्तेमाल हो रहा है।

एसके श्रीवास्तव, पीआरओ

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Railway will prevent rail accidents due to live cell technology