ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश आगराकराहती रही गर्भवती, जैसे-तैसे मिला इलाज

कराहती रही गर्भवती, जैसे-तैसे मिला इलाज

जिला महिला चिकित्सालय में बरसात का पूरा असर दिखा। ओपीडी में सन्नाटा छाया रहा, वहीं गर्भवती महिलाओं को अटेंड करने वालों का भी टोटा...

कराहती रही गर्भवती, जैसे-तैसे मिला इलाज
हिन्दुस्तान टीम,आगराThu, 30 Nov 2023 11:25 PM
ऐप पर पढ़ें

जिला महिला चिकित्सालय में बरसात का पूरा असर दिखा। ओपीडी में सन्नाटा छाया रहा, वहीं गर्भवती महिलाओं को अटेंड करने वालों का भी टोटा दिखा। गर्भवती महिलाओं को लेकर उनके परिजन ओपीडी से लेकर लेबर रूम तक घूमते रहे। लेकिन, उनको अटेंड करने वाला नहीं मिल पा रहा था।

गुरुवार को सुबह से हो रही बरसात के चलते जिला महिला चिकित्सालय में नाई की मंडी निवासी मालती दर्द से कराह रही थी। उसके साथ में आशा थी। ओपीडी से लेकर लेबर रूम तक जैसे-तैसे मालती पहुंची। इस बीच पति 500 मीटर की दूरी पर 100 शैया में व्हील चेयर और स्ट्रेचर के लिए दौड़ लगाता रहा। लेकिन, उसको कुछ नहीं मिला। ऐसे में पत्नी को पकड़कर अस्पताल तक ले गया। वहां जाकर देखा तो कोई भी उन्हें अटेंड करने वाला नहीं मिला। महिला को पानी का स्राव शुरू हो गया था। जैसे-तैसे वहां मौजूद महिलाओं ने उसे संभाला। उसे ओटी तक पहुंचाया, लेकिन वहां भी डॉक्टर नहीं मिली। काफी समय तक महिला दर्द से कराहती रही। इसी बीच कमलानगर निवासी रानी पहुंची। उसको कहा गया कि जब तक आशा नहीं आएगी एडमिट नहीं करेंगे। महिला की हालत लगातार खराब हो रही थी। इसके बाद पति ने हंगामा किया तो उसका पर्चा बनवाकर उसे एडमिट किया गया। ओपीडी की बात करें तो ओपीडी में सिर्फ एक ही डाक्टर बैठी थी। उन्होंने बताया कि सुबह से 12 बजे तक उन्होंने 30 मरीजों को देखा है। ओपीडी में ज्यादातर डॉक्टर और कर्मचारी नदारद दिखे। बता दें कि रोजाना ओपीडी में 200 से 400 तक मरीज रहते हैं। लेकिन, गुरुवार को बरसात के चलते मरीजों की संख्या तो ठीक थी। डॉक्टर न होने के कारण ज्यादातर को वापस लौटना पड़ा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें