DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गला घोंटकर सराफा कारोबारी की हत्या

default image

छलेसर में गुरुवार को दिनदहाड़े प्रिया ज्वैलर के मालिक शिशुपाल (58) की गला घोंटकर हत्या कर दी गई। उनका शव दुकान के तहखाने में मिला। मुंह में कपड़ा ठूंसा गया था ताकि किसी को उनकी चीख सुनाई नहीं पड़े। हत्याकांड के समय बहू और उसके छोटे बच्चे घर पर मौजूद थे। बहू ने एक महिला व दो पुरुष को दुकान से बाहर जाते देखा था। वे कौन थे। यह पता नहीं चला है। हत्या की वजह भी उजागर नहीं हुई है। पुलिस घटना को सिर्फ हत्या का मान रही है। लूटपाट नहीं हुई थी।

घटना की जानकारी दोपहर करीब तीन बजे हुई। मूलत: सहपऊ (धौलपुर) निवासी शिशुपाल पिछले कई साल से छलेसर में रह रहे थे। उनके तीन बेटे हैं। संजय, चेतन व मौसम। संजय शाहदरा में रहता है। प्रिया बर्तन भंडार नाम से दुकान है। चेतन मथुरा में रहता है। मौसम अपनी पत्नी प्रीति व दो बच्चों सहित पिता के पास रहता है। मां का देहांत हो चुका है। रक्षाबंधन पर मौसम अपनी दो बहनों के साथ बड़े भाई चेतन के घर मथुरा गया था। घर पर पत्नी प्रीति, बेटी खुशी(07) व बेटा डुग्गू (03) मौजूद थे। नीचे दुकान है और ऊपर घर है।

दोपहर करीब तीन बजे बिजली चली गई थी। बहू प्रीति ने ससुर शिशुपाल को आवाज लगाई। जब नीचे से कोई आवाज नहीं आई तो वह नीचे आई। उसने देखा कि पिता दुकान पर नहीं है। उसने देखा कि तहखाने का दरवाजा खुला हुआ है। उसे लगा कि शायद किसी काम से नीचे नहीं गए हों। वह नीचे की तरफ उतरने लगी। देखा तो ससुर का शव पड़ा था। वह दहशत में आ गई। चीखते हुए बाहर आई। शोर मचाया। पुलिस को सूचना दी।

सूचना पर एसएसपी बबलू कुमार और एसपी देहात पश्चिम रवि कुमार आदि फोर्स के साथ पहुंचे। फोरेंसिक टीम को बुलाया गया। छानबीन में यह साफ हुआ कि दुकान में किसी प्रकार की लूटपाट नहीं हुई है। मामला सिर्फ हत्या का है। शिशुपाल के मुंह में कपड़ा भरा हुआ था। गले पर निशान थे। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

............

कारोबारी की कॉल डिटेल निकाली जा रही है। फिलहाल बेटे मौसम की तहरीर पर अज्ञात हत्यारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

अतुल सोनकर, सीओ एत्मादपुर

................................

आखिर कौन थे महिला व पुरुष

दोपहर दो बजे शिशुपाल जिंदा थे। नातिनी खुशी अपने बाबा के पास गई थी। बाबा ने उसे रुपये भी दिए थे। मासूम बच्ची ने पुलिस को बताया कि दो अंकल और एक आंटी दुकान के बाहर खड़े थे। बाबा से बात कर रहे थे। बहू प्रीति ने भी पुलिस को यह बताया कि बिजली जाने पर उसने ससुर को आवाज लगाई थी। नीचे उतर रही थी। तभी उसने देखा कि एक महिला और दो पुरुष दुकान से बाहर निकल रहे हैं। उसने सिर्फ उनकी पीठ देखी। आशंका यही है कि इस हत्याकांड में एक महिला भी शामिल है। वह महिला कौन है। पुलिस यह पता लगा रही है।

इंसेट---------

कॉल डिटेल से खुलेंगे राज

शिशुपाल की किससे बातचीत हुआ करती थी। पुलिस यह पता लगा रही है। इसके लिए कॉल डिटेल निकाली जा रही है। पुलिस यह मानकर चल रही है कि वारदात को किसी परिचित ने ही अंजाम दिया है। दुकान में बदमाश आए होते तो लूटपाट भी करते। बदमाश सिर्फ हत्या करने क्यों आएंगे। मुंह में कपड़ा इसलिए ठूंसा गया ताकि शिशुपाल की चीख ऊपर घर तक नहीं पहुंचे। जो भी आया था उसे सिर्फ उनकी हत्या करनी थी। परिवार से रंजिश होती तो ऊपर पहुंचकर बहू और बच्चों को भी नुकसान पहुंचाता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:murder