DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › आगरा › मूकबधिर और दृष्टिहीन बच्चों की पढ़ाई ठप
आगरा

मूकबधिर और दृष्टिहीन बच्चों की पढ़ाई ठप

हिन्दुस्तान टीम,आगराPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 07:55 PM
मूकबधिर और दृष्टिहीन बच्चों की पढ़ाई ठप

मूकबधिर और दृष्टिहीन बच्चों की पढ़ाई ठप है। इनको पढ़ाने वाले विशेष शिक्षकों का अभी तक नवीनीकरण नहीं किया गया है। जबकि जुलाई के पहले सप्ताह में यह काम हो जाना था। इसके कारण यह शिक्षक स्कूल नहीं पहुंच रहे हैं। हर दिन वह बेसिक शिक्षा विभाग और विकास भवन के चक्कर लगा रहे हैं। लेकिन अधिकारी नवीनीकरण की फाइल दबाए बैठे हैं। राज्य परियोजना कार्यालय से तीन बार इनके नवीनीकरण के आदेश भी आ चुके हैं, पर अधिकारी उन्हें भी नजरअंदाज कर रहे हैं। मूक-बधिर बच्चे कोरोना महामारी की वजह से पिछले बीस महीनों से पढ़ाई से पूरी तरह वंचित हैं। कारण, इनके स्कूल और छात्रावास बंद हैं। देशभर में सामान्य बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास तो चल रही है, लेकिन मूक-बधिर बच्चों के लिए ऐसा कोई विकल्प उपलब्ध नहीं है। सूत्रों बताते हैं कि समय रहते अगर सरकार ने इनकी शिक्षा को लेकर कदम नहीं उठाए तो इनमें निरक्षरता की दर 75% तक बढ़ सकती है।

शिक्षा से जोड़ने की समेकित योजना बैठी

मूकबधिर और दृष्टिहीन बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा में लाने के लिए समेकित योजना का संचालन किया जा रहा है। इन बच्चों को पहले प्री इंटीग्रेशन कैंप के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जाता है, उसके बाद परिषदीय विद्यालयों में प्रवेश कराया जाता है। जिले के लगभग 2880 परिषदीय विद्यालयों में साढ़े पांच हजार से अधिक मूकबधिर और दृष्टिहीन बच्चे पंजीकृत हैं। विशेष शिक्षकों की नियुक्ति इन बच्चों को पढ़ाने के लिए की गई थी। नवीनीकरण होना था, लेकन सात महीने से अधिक दिन बीतने के बाद भी नहीं किया गया। अधिकारी एक-दूसरे पर टाल रहे हैं।

हर विकासखंड में स्थित स्कूलों में एक शिक्षक की तैनाती होती है। लेकिन इनका मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर जानकारी मंगाई जाएगी। इसके बाद जल्द ही इस समस्या का समाधान किया जाएगा।

ए मणिकंडन, मुख्य विकास अधिकारी

बेसिक शिक्षा विभाग से प्राप्त जानकारी

जिले में स्थिति

6872 पंजीकृत बच्चे

34 कुल शिक्षकों की तैनाती

02 साल से नहीं आया है बजट

2019 से नहीं हुई है इंटीग्रेटेड ट्रेनिंग

संबंधित खबरें