Saturday, January 29, 2022
हमें फॉलो करें :

गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश आगराकोरोना ने रोक दिया वेस्ट टू एनर्जी प्लांट का काम

कोरोना ने रोक दिया वेस्ट टू एनर्जी प्लांट का काम

हिन्दुस्तान टीम,आगराNewswrap
Tue, 06 Jul 2021 10:31 PM
कोरोना ने रोक दिया वेस्ट टू एनर्जी प्लांट का काम

आगरा। शहर में कचरे से बिजली बनाने के प्लांट को सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी मिल गई है लेकिन कोरोना की वजह से योजना परवान नहीं चढ़ पा रही है। दरअसल यह प्लांट विदेशी तकनीक पर आधारित है। प्लांट का निर्माण भी विदेशी कंपनियां करेंगी, लेकिन कोरोना में लॉकडाउन के कारण विदेशी प्रतिनिधि आगरा नहीं आ पा रहे हैं, इस वजह से प्लांट के निर्माण की प्रक्रिया में अधर में है।

आगरा में कचरे के निस्तारण की बड़ी समस्या है। लैंडफिल साइट पर कचरे के पहाड़ बन जाते हैं। इसलिए नगर निगम के अधिकारी चाहते थे कोई ऐसी व्यवस्था बने जिससे कचरा भी निस्तारित हो जाए और निगम को लाभ मिलने लगे। इसका एक उपाय यह था कि कचरे से बिजली बनाई जाए। इससे कचरा भी निस्तारित हो जाएगा और बिजली भी मिलने लगेगी।

इसके प्लांट के लिए नगर निगम ने कई कंपनियों से संपर्क साधा। अंत में स्पार्कवेजन कंपनी के साथ नगर निगम का करार हुआ। यह कंपनी चेक गणराज्य की तकनीक के आधार पर प्लांट लगाएगी। इस प्लांट में करीब 10 मेगावाट बिजली पैदा होगी और करीब 550 मीट्रिक टन कचरा रोज खप जाएगा। इससे प्रदूषण भी कम होगा। अब समस्या यह थी कि प्लांट के लिए एनजीटी और सुप्रीम कोर्ट से अनुमति लेनी थी। काफी जद्दोजहद के बाद अब अनुमति मिल गई है लेकिन कोरोना की वजह से काम आगे नहीं बढ़ पा रहा है। नगर आयुक्त निखिल टीकाराम फुंडे का कहना है कि इस प्लांट को मलेशिया और चेक गणराज्य की टीम स्थापित करेगी। पहले टीम यहां का दौरा करेगी उसके बाद काम आगे बढ़ेगा। पिछले दिनों चेक गणराज्य के कुछ अधिकारी भारत आए थे लेकिन तभी कोरोना की दूसरी लहर आ गई और वे लोग केरल में कुछ दिन रहे और वापस लौट गए। अब हालात सामान्य होने लगे हैं तो काम आगे बढ़ाने के लिए कोशिश शुरू करेंगे।

epaper

संबंधित खबरें