DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश आगराकोरोना ने 11 हजार छात्रों को परीक्षा के बिना आगे बढ़ाया

कोरोना ने 11 हजार छात्रों को परीक्षा के बिना आगे बढ़ाया

हिन्दुस्तान टीम,आगराNewswrap
Wed, 02 Jun 2021 04:40 AM
कोरोना ने 11 हजार छात्रों को परीक्षा के बिना आगे बढ़ाया

आगरा। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) की 12वीं की परीक्षा को लेकर छात्रों के मन में चल रही उलझन अब समाप्त हो गयी। केन्द्र सरकार ने सीबीएसई बारहवीं की परीक्षा को रद कर दिया। इससे जनपद के सौ से अधिक सीबीएसई स्कूलों में पढ़ाई कर रहे 11 हजार से अधिक छात्र बिना परीक्षा के आगे बढ़ जाएंगे। इससे पहले सीबीएसई दसवीं के छात्रों की परीक्षा को भी रद कर चुका है।

12वीं की परीक्षा को लेकर छात्र लगातार स्थिति स्पष्ट करने की मांग कर रहे थे। छात्रों का कहना था कि परीक्षा होने या फिर टालने के कारण उन्हें अधिक मानसिक तनाव हो रहा है। अभी तक स्थगित रही सीबीएसई 12वीं की परीक्षा को अब रद कर दिया है। जनपद में सीबीएसई बारहवीं में 11660 छात्र पंजीकृत थे। पिछले दिनों ही छात्रों ने प्रयोगात्मक परीक्षा दी थी। अब परीक्षा रद होने से सबसे ज्यादा राहत की सांस अभिभावकों ने ली है। साथ ही बड़ी संख्या में छात्र भी इस फैसले से खुश हैं, क्योंकि वह औसतन दो-दो बार प्री-बोर्ड की परीक्षा दे चुके हैं। इसके साथ ही बोर्ड स्तर से होने वाली प्रयोगात्मक परीक्षा भी दे चुके हैं। ऐसे में उनका मूल्यांकन किया जा सकता है। हालांकि कुछ छात्र और ज्यादातर स्कूल स्थिति सामान्य होने पर परीक्षा कराने के पक्ष में भी हैं।

10वीं के परिणाम में फंसे, 12वीं की राह ना हो मुश्किल

नीसा एजुकेशन फंड के नेशनल कन्वीनर डॉ. सुशील गुप्ता के अनुसार सीबीएसई बोर्ड की 10वीं की परीक्षा पूर्व में ही निरस्त की जा चुकी हैं। पूर्व में दिए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार कक्षा 10 के परीक्षाफल को तैयार करने में आ रही परेशानियों से हम सभी अवगत हैं। ऐसे में कक्षा 12 का भी परीक्षाफल तैयार करना निश्चित रूप से अत्यंत पेचीदा हो सकता है।

कोरोना से लगातार दूसरी बार परीक्षा हुई रद

सीबीएसई की परीक्षा पर कोरोना का साया लगातार दूसरे साल पड़ा है। सीबीएसई की परीक्षा मुख्य विषयों को छोड़कर बीते साल 2020 में भी रद की गई थी। उस दौरान सिर्फ मुख्य विषयों की परीक्षा कराई गई थी। वहीं अन्य विषयों में छात्रों को औसत अंक देकर परीक्षा परिणाम जारी किया गया था। इसके साथ ही 10वीं के छात्रों की अधूरी परीक्षा हो सकी थी। इसके बाद परीक्षा रद कर दी गयी थी।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें