DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश आगराभाजयुमो के क्षेत्रीय मंत्री व महानगर अध्यक्ष पर डकैती का मुकदमा

भाजयुमो के क्षेत्रीय मंत्री व महानगर अध्यक्ष पर डकैती का मुकदमा

हिन्दुस्तान टीम,आगराNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 06:55 PM
भाजयुमो के क्षेत्रीय मंत्री व महानगर अध्यक्ष पर डकैती का मुकदमा

आगरा। प्रमुख संवाददाता

चिल्लीपाड़ा (शाहगंज) में वर्षा रघुवंशी की मौत के बाद शुक्रवार को बवाल हुआ था। इस मामले में तीन और मुकदमे लिखे गए हैं। एक व्यापारी की तहरीर पर बलवा, डकैती और तोड़फोड़ का मुकदमा लिखाया गया है। मुकदमे में भारतीय जनता युवा मोर्चा के क्षेत्रीय मंत्री गौरव रजावत और युवा मोर्चा के महानगर अध्यक्ष शैलू पंडित को नामजद किया गया है। एक मुकदमा पुलिस ने लिखाया है। हैरानी की बात यह है कि पुलिस की मौजूदगी में बवाल हुआ। वीडियो वायरल हुए फिर भी मुकदमे में किसी के नाम नहीं खोले गए।

चिल्लीपाड़ा में सीओ लोहामंडी सौरभ सिंह, इंस्पेक्टर शाहगंज योगेंद्र कुमार की मौजूदगी में बवाल हुआ था। दोनों तरफ से पथराव हुआ था। आरोप फायरिंग का भी है। पहले दिन वर्षा रघुवंशी के भाई दुष्यंत की तहरीर पर दहेज उत्पीड़न और दहेज मृत्यु का मुकदमा लिखा गया था। वर्षा के पति, ससुर और देवर को पुलिस ने जेल भेजा था। शनिवार देर रात तीन और मुकदमे लिखे गए।

पहला मुकदमा चौकी इंचार्ज डिवीजन राकेश कुमार की तहरीर पर बलवा, सरकारी कार्य में बाधा, पथराव और सात क्रिमनल लॉ अमिडमेंट ऐक्ट के तहत लिखा गया। मुकदमा अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ है। दूसरा मुकदमा भाजयुमो के क्षेत्रीय मंत्री गौरव रजावत की तहरीर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ लिखा गया। उन्होंने आरोप लगाया कि चिल्लीपाड़ा में उनके ऊपर कातिलाना हमला हुआ। बस्ती के लोगों ने पथराव किया। जान लेने की नीयत से गोलियां चलाईं। बमुश्किल भागकर उन्होंने अपनी जान बचाई। तीसरा मुकदमा शाहगंज बाजार स्थित रेडीमेड कपड़े की दुकान के संचालक अमान वेग की तहरीर पर बलवा, डकैती, तोड़फोड़, मारपीट आदि धारा के तहत मुकदमा लिखा गया है। मुकदमे में गौरव रजावत और शैलू पंडित नामजद हैं। दुकान में तोड़फोड़ के सीसीटीवी फुटेज भी पुलिस को मुहैया कराए गए हैं।

--------------

पथराव तो हुआ फिर भी गिरफ्तारी नहीं

चिल्लीपाड़ा में पुलिस की मौजूदगी में बवाल हुआ। पुलिस अधिकारियों को भी उस समय मौके से दौड़ लगानी पड़ी। बस्ती में दहशत फैल गई। बाजार बंद हुआ। पुलिस ने सब कुछ अपनी आंखों से देखा। दो दिन बाद भी पुलिस यह तय नहीं कर पाई कि बवाल किसने किया। पथराव करने वाले कौन थे। मुकदमा अज्ञात के खिलाफ लिखाया। जब मुकदमा ही अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ है तो गिरफ्तारी का प्रश्न ही नहीं उठता। पुलिस अभी उपद्रवियों को चिन्हित कर रही है। उसके बाद कार्रवाई की जाएगी।

जो भी तहरीर मिली थीं उन पर मुकदमे दर्ज करने के आदेश दिए गए थे। पुलिस साक्ष्यों के आधार पर कानूनी कार्रवाई करेगी। दहेज मृत्यु वाले मुकदमे में तीन आरोपित जेल भेजे जा चुके हैं। दो अन्य की तलाश जारी है।

एसपी सिटी विकास कुमार

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें