DA Image
29 फरवरी, 2020|12:07|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'समीर' से गायब आगरा का एक्यूआई

default image

ताजनगरी में घातक सूक्ष्म कण पीएम-2.5 की तीन दिन से निगरानी ठप

सीपीसीबी के मोबाइल एप 'समीर' व ऑनलाइन सेंटर पर नहीं कोई डाटा

आगरा। कार्यालय संवाददाता

तीन दिन से आगरा में घातक सूक्ष्म कण पीएम-2.5 की निगरानी ठप है। मोबाइल एप और ऑनलाइन मॉनीटरिंग सेंटर पर भी एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) नहीं प्रदर्शित हो रहा है। जिम्मेदार प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड आंख मूंद कर सो रहा है।

देश के 10 सबसे प्रदूषित शहरों में शुमार ताजनगरी में हवा की सेहत नहीं सुधर सकी। बीमार हवा में मौजूद विषैले प्रदूषकों की जांच के लिए नगर निगम में ऑनलाइन मॉनीटरिंग सेंटर है। इसका डाटा सीपीसीबी (सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड) की नेशनल एयर क्वालिटी इंडेक्स (एनएक्यूआई) पर 24 घंटे प्रदर्शित होता है। परंतु 31 दिसंबर की रात से इस पर पीएम-2.5 का पता नहीं चल रहा। अपर्याप्त डाटा के कारण एक्यूआई की मॉनीटरिंग नहीं हो रही। कुछ यही हाल सीपीसीबी द्वारा बनाए मोबाइल एप 'समीर' का है। समीर एप से घर बैठे कोई भी व्यक्ति शहर में वायु प्रदूषण की स्थिति जान सकता है। परंतु एप से भी आगरा का एक्यूआई गायब है।

वहीं इस संबंध में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड बेखबर है। तीन दिन से उन्हें एक्यूआई डाटा की जानकारी नहीं। इस संबंध में यूपीपीसीबी के क्षेत्रीय अधिकारी भुवन यादव ने कहा कि मोबाइल व ऑनलाइन सेंटर पर एक्यूआई क्यों प्रदर्शित नहीं हो रहा, इसकी जांच कराई जाएगी। कोई तकनीकी खराबी हो सकती है। मुझे इसका पता नहीं। कल टीम भेजी जाएगी।

बढ़ रहा विषैली गैसों का स्तर

एयर क्वालिटी इंडेक्स पर एक तरफ पीएम-2.5 का डाटा नहीं मिल रहा। दूसरी तरफ आधे-अधूरे डाटा से ही वायु प्रदूषण की खानापूर्ति हो रही है। शुक्रवार को आगरा में विषैली गैस नाइट्रोजन डाई ऑक्साइड और कार्बन मोनो ऑक्साइड का स्तर सामान्य से अधिक रहा। विषैली गैसों का हवा में स्तर बढ़ने से ह्दय व सांस रोगियों को तकलीफ होती है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: AQI of Agra missing from Sameer