DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमरनाथ यात्रा हमला: आतंक के आगे झुकेंगे नहीं, अगले साल फिर जाएंगे यात्रा पर

सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी

सोमवार देर शाम अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमले से फिर एक बार देश हिल गया। यात्रा से सोमवार सुबह ही लौटे ब्रज के यात्रियों के दल ने यात्रा मार्ग की दुश्वारियों और दहशत का हाल सुनाया तो एकबारगी सभी हिल गए। लेकिन आस्था और देश प्रेम के अनुगामी अमरनाथ यात्रियों ने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए, वह अगले साल फिर यात्रा पर जाएंगे। उनका हौसला डिगा नहीं है। सीना तान कर घोषणा करते हैं, आतंक के आगे झुकेंगे नहीं। फिर अमरनाथ यात्रा पर जाएंगे और भी ज्यादा उत्साह के साथ। 

बाबा बर्फानी के दर्शन से लौटे ब्रज के यात्री दल की हुंकार से आतंक फनाह होता लगा। यात्री दल में शामिल मुकुल गौतम ने बताया कि वह अपने साथियों के साथ दो जुलाई को ऊधमपुर पहुंचे। अपने यूपी से वहां माहौल बिल्कुल अलग था। जितने लोग सड़कों पर नहीं थे, उससे कई गुना ज्यादा सुरक्षा बल क्षेत्र की सुरक्षा के लिए तैनात नजर आ रहे थे। 

चप्पे चप्पे पर दहशत का आलम था। शायद ही कोई स्थान होगा जहां दुकानें खुली मिली हों। लेकिन इस स्थिति के बावजूद आस्था में कहीं कमी नहीं थी। पहलगाम तक के लंबे सफर में ऐसा कोई हिस्सा नहीं था, जहां सुरक्षा बल तैनात न हो। यात्रियों से ज्यादा हौसला धर्मार्थ संस्थाओं का दिख रहा था। जिन्होंने यात्रा मार्ग में जगह-जगह लंगर लगाए हुए थे। 

मुश्किल से कटी रात
मुकुल ने बताया कि वह लोग दो जुलाई की रात को पहलगाम पहुंचे थे। यहां सुरक्षा बलों के कैंप में ठहरे। यह रात बड़ी कठिनाई से व्यतीत की। ठंड का इलाज तो हो गया, लेकिन वातावरण के खौफ से होने वाली सिहरन दूर नहीं हो पा रही थी। जैसे तैसे रात गुजरी और अगले दिन चढ़ाई शुरू की। गुफा के दर्शन हुए और वापस 9 जुलाई को मथुरा पहुंचे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Amarnath Yatra Attack: Will not Lean Against Terror