DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिपाही मकान खाली कराए नहीं तो दे 27 लाख

सिपाही ने मकान बेचा। एक महिला ने खरीदा। महिला ने पैसा दे दिया। मकान पर उसे अभी तक कब्जा नहीं मिला है। सिपाही का अपनी बहू से विवाद चल रहा है। मकान पर उसका कब्जा है। सिपाही परेशान नहीं करे इसलिए बहू ने दहेज उत्पीड़न का मुकदमा लिखा दिया है। यह मामला मंगलवार को एडीजी अजय आनंद के समक्ष पहुंचा। दोनों पक्ष सुनने के बाद एडीजी ने सिपाही को सात दिन का समय दिया। कहा मकान खाली कराए नहीं तो पीड़िता के पैसे वापस करे। सात दिन बाद वह सीधे जेल जाएगा। बर्खास्तगी की कार्रवाई होगी।

मुरैना निवासी शशि सिंह ने शाहगंज थाने में मुकदमा लिखाया है। आरोपित सिपाही विनोद मथुरा में तैनात है। बोदला के वैशाली नगर में उसका मकान है। मकान उसकी पत्नी के नाम है। सिपाही ने अपना मकान बेचा। शशि सिंह ने खरीदा। बैंक से लोन लेकर 27 लाख रुपये का भुगतान किया। हर माह उन्हें बैंक की किश्त जमा करनी पड़ती है। सिपाही ने मकान के एक कमरे पर उन्हें कब्जा दे दिया। दूसरे कमरे में बहू का सामान रखा था। कहा कि एक-दो दिन में खाली हो जाएगा। महिला मान गई। इस बात को महीनों हो गए। पूरे मकान पर उसे अभी तक कब्जा नहीं मिला है। मुकदमा लिखाने पर भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही थी। यह देख वह एडीजी अजय आनंद के समक्ष पेश हुई।

अपना पक्ष रखा। एडीजी ने पीड़िता से पूछा कि कहां रहती है। उसने बताया कि मुरैना। वहां से ही आई है। यह सुनकर एडीजी ने सिपाही को फोन मिलवाया। उससे कहा कि एक घंटे के अंदर उनके कार्यालय में उपस्थित हो। विवेचक को भी बुलाया गया। एडीजी ने दोनों पक्ष सुने। सिपाही से कहा कि सात दिन का समय उसके पास है। जेल नहीं जाना है तो मकान खाली करा दे। मकान में उसकी बहू का कब्जा है। वह उसे कैसे भी मनाए। बहू मकान खाली करने को तैयार नहीं हो तो पैसे वापस करे। आठवें दिन गिरफ्तारी होगी। बर्खास्तगी की फाइल चलेगी। विवेचक से कहा गया कि सात दिन में समस्या का निरस्तारण नहीं हो तो कानूनी कार्रवाई करे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:adg