DA Image
20 सितम्बर, 2020|4:03|IST

अगली स्टोरी

31 दिनों में 3102 एफआईआर, बिजली चोरों में दहशत

default image

दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (डीवीवीएनएल) 31 अगस्त तक बकाया वसूली का लक्ष्य पूरा नहीं कर सका। लेकिन, बकाएदारों पर शिकंजा कसने में पूरी ताकत लगा दी गई। यही वजह रही कि अगस्त में बिजली विभाग ने अभियान चलाकर 3102 लोगों के खिलाफ बिजली चोरी की धाराओं में मुकदमा दर्ज करा दिया।

सर्वाधिक एफआईआर बाह, जगनेर, फतेहाबाद क्षेत्र के सर्किल में हुई। बिजली विभाग के अधिकारियों का कहना है कि एफआईआर की कार्रवाई के बाद अब बकाएदारों से बिलों की वसूली के लिए आरसी के जरिए बिलिंग कराने का अभियान चलेगा।

कोरोना संकट के बीच बिजली विभाग की आसान किस्त योजना और किसान सम्मान योजना में पंजीकृत बकाएदार बिलों को जमा नहीं कर सके। बिजली विभाग ने इन किसानों और उपभोक्ताओं को बकाया जमा करने के लिए 30 मई, फिर 30 जून, 30 जुलाई और फिर 31 अगस्त तक का समय दिया। विभाग ने 31 अगस्त तक सिर्फ एक किस्त जमा करने पर इन दोनों ही योजनाओं का लाभ दिए जाने की पहल भी की, लेकिन आर्थिक संकट का सामना कर रहे उपभोक्ता इस पहल पर खरे नहीं उतर पाए। बिजली विभाग के अधिकारियों ने इस संकट को दरकिनार कर 24 घंटे बिजली देने का वायदा पूरा करने के लिए बकाएदारों के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया और अभियान में चोरी से बिजली का प्रयोग कर रहे 3102 के खिलाफ एफआईआर करा दी।

चोरी से न जलाएं बिजली, वरना होगी एफआईआर

डीवीवीएनएल के डायरेक्टर कॉमर्शियल एससी भारती ने बताया कि अभियान के दौरान आगरा में ऐसे उपभोक्ताओं के कनेक्शन काटे गए, जो बिल नहीं दे रहे थे। कनेक्शन काटे जाने के बाद 3102 उपभोक्ता चोरी से बिजली का प्रयोग कर रहे थे। कटिया कनेक्शन के सहारे बिजली जलाने वालों पर भी एफआईआर कराई गई। उपभोक्ता चोरी से बिजली का प्रयोग न करें। यह अभियान जारी रहेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:3102 FIR in 31 days terror thieves panic