DA Image
28 सितम्बर, 2020|8:09|IST

अगली स्टोरी

Tirchi Najar Hindustan Column की खबरें

  • अगर आप आज के साहित्यकार हैं, तो तय मानिए, आप इस सृष्टि पर एक एहसान हैं। इस समाज को हमेशा आपका कृतज्ञ रहना है। यह भी तय मानिए कि आप कोई मामूली आदमी नहीं हैं, आप तो धरती पर साहित्य के साक्षात अवतार...

    Sat, 25 Jan 2020 11:49 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • पता नहीं क्यों, कुछ लोगों ने ईष्र्या-द्वेष को नकारात्मक भाव सिद्ध कर उनको रचनात्मक जगत से खारिज कर रखा है? हमारे लेखे तो इनसे अधिक रचनात्मक भाव कोई और नहीं। यकीन न हो, तो इनकी रचनात्मक क्षमता को...

    Sat, 11 Jan 2020 10:49 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • बरस की टॉप की बीस रचनाएं। टॉप के पांच रचनाकार। बरस के बेस्ट सेलर। लिस्ट पर लिस्ट बन रही हैं। जिस लेखक का नाम आ जाता है, वह नाचने लगता है, जिसका नहीं आता, वह गीता  का ‘निष्काम...

    Sat, 04 Jan 2020 09:45 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • हिंदी में तीन तरह के साहित्यकार हैं- उत्तम, मध्यम, अधम। वे ‘उत्तम कोटि’ में आते हैं और मैं ‘अधम कोटि’ में।  मैं इस सत्य को बहुत दिन बाद ही जान पाया कि साहित्यकार होने के...

    Sat, 28 Dec 2019 10:00 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • मन कर रहा है कि अब लौटा ही दूं, बड़ी खबर बनूं और मीडिया में छा जाऊं। चैनल वाले पीछे पड़ जाएं। इंटरव्यू लें, बार बार दिखाएं और मैं उनको बताऊं कि मैं क्यों लौटा रहा हूं? क्या कहना है? कैसे कहना है? कितना...

    Sat, 21 Dec 2019 09:29 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • जो पढ़ सकता है सो पाठक, जो लिख सकता है सो लेखक। अब इस तर्क से हिंदी में लेखक ही लेखक हैं। कोई ‘पल दो पल’ का है, तो कोई आधे घंटे-एक घंटे का है, तो कोई चौबीस बाई सात का है। इनमें भी कोई...

    Sat, 14 Dec 2019 10:13 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • एक लेखक ने दूसरे के बारे में कहा- वह तो ‘दो टके’ का लेखक है। दूसरी तरफ से जवाबी जुमला आया- क्या वह खुद ‘चवन्नी छाप’ है? इस ‘साइबरी विमर्श’ को देखकर लगा कि और कुछ...

    Sun, 08 Dec 2019 12:10 AM Tirchi Najar Hindustan Column
  • हिंदी किसी को बूढ़ा नहीं होने देती। हिंदी में सभी रचनाकार युवा हैं। हिंदी में हर लेखक चिर युवा कहलाता है और आलोचक भी हर लेखक को युवा लेखक के नाम से पुकारते हैं। कारण है ‘केश कलर कल्चर’। ये...

    Sat, 13 Jul 2019 09:38 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • सुधीश पचौरी हिंदी साहित्यकार

    कैसा मनहूस समय है कि एक मामूली से ‘मीम’ (कार्टून) को सिर्फ फॉरवर्ड करने के ‘अपराध’ पर न हंसने वालों ने जेल करा दी और अब माफी मंगवाई जा रही है। इधर मैं हंसूं और उधर मेरे हंसने...

    Sat, 18 May 2019 10:46 PM Tirchi Najar Hindustan Column
  • सुधीर पचौरी

    हिंदी का हर लेखक यथार्थ से जुड़ा होता है। वह जब भी देखता है, यथार्थ देखता है। जब दिखाता है, यथार्थ ही दिखाता है। जो कहता है, यथार्थ कहता है। हिंदी में सभी ‘यथार्थवादी’ हैं। कोई यथार्थ का...

    Sun, 12 May 2019 12:11 AM Tirchi Najar Tirchi Najar Hindustan Column
  • 1
  • of
  • 5

चुटकुले

संता ने डॉक्टर को दिया ऐसा जवाब, सुनकर हंसते-हंसते लोटपोट हो जाएंगे आप

संता- डॉक्टर चश्मा लगने के बाद मैं पढ़ तो सकूंगा ना...?
.

डॉक्टर- हां बिल्कुल...

संता- फिर ठीक है डॉक्टर, नहीं तो अनपढ़ आदमी
की जिंदगी भी कोई जिंदगी है...!!