DA Image

अगली स्टोरी

Nashtar Column की खबरें

  • देश बदल रहा है, बिल्कुल वैसे ही, जैसे मेरे पड़ोसी गुप्ताजी। सुबह की सैर के लिए जाते तो वह पहले भी थे, लेकिन अब ब्रांडेड सूट-बूट पहनकर जाते हैं। वही पुराना आराम और मॉडर्न होने का नाम। पहले पड़ोसी की...

    Mon, 21 Jan 2019 11:58 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • आप चिंतित न हों कि गऊ माता कहां चली गईं? वे आपको सड़कों पर टहलती नजर नहीं आ रहीं, डिवाइडरों पर बैठी पगुराती नजर नहीं आ रहीं, कचरे के ढेर पर भी नजर नहीं आ रहीं, खेतों में चरती हुई नजर नहीं आ रहीं और...

    Thu, 17 Jan 2019 09:14 PM IST Nashtar Column Nashtar Hindustan Column
  • निस्संदेह मौसम ठंडा गया है, पर इतना भी नहीं कि किसी सलोने गाल को छूकर कहना ही पड़े कि ‘भौत’ ठंड है। तमाम तरह के संशय हैं, लेकिन ऐसा कोई असमंजस नहीं कि बालकनी में खड़े होकर प्रेम भरी उसांस...

    Mon, 14 Jan 2019 11:55 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • अब लोहिया जैसे मूर्तिभंजक नहीं हैैं। उल्टे उनके चेले मूर्ति पूजक बने हुए हैं। ‘तेरी से ऊंची मेरी मूर्ति की प्रतियोगिता है। दक्षिण भारत तो खैर जाना ही जाता है अपनी दैत्याकार होर्डिंग्स के लिए।...

    Mon, 14 Jan 2019 12:53 AM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • कमाल है, आजकल यहां कोई डरता ही नहीं। पहले के लोग अपने पैर भी बढ़ाते थे, तो डर-डरकर। जैसे डरना अनिवार्य हो। डर जब हमको जीतना सिखाता है, तब हम सचमुच डरना भूल जाते हैं। एक बात यह भी कचोटती है कि हमको...

    Sat, 12 Jan 2019 12:22 AM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • जब से खबरिया चैनल आने वाले चुनाव के बचे दिनों की संख्या टीवी स्क्रीन पर सजाने लगे हैं, तभी से विचारों के यातायात में प्रतिदिन ट्रैफिक जाम न जाने क्यों इस बात पर हो रहा कि चुनाव की बेला में ही सिर्फ...

    Thu, 10 Jan 2019 11:55 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • कभी-कभी ऐसी जगह से कोई ज्ञान की किरण मिल जाती है, जहां से बिल्कुल भी उम्मीद नहीं होती। कौन कह सकता है कि संसद में हुई बहस में कोई अनमोल ज्ञान का रत्न मिल जाएगा? संसद में एक तो बहस होती ही दुर्लभ है,...

    Wed, 09 Jan 2019 11:49 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • शराबखाने में एक शराबी दूसरे से और पीने का आग्रह करते हुए कह रहा था- पी ले भई, थोड़ी और पी ले। तेरी ही वजह से किसानों के कर्ज माफ होने हैं। दोनों किसान राहत योजना के तहत पीने लगे। तमाम राज्य सरकारों ने...

    Wed, 09 Jan 2019 12:25 AM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • दिल्ली में पुस्तक मेला सजा, तो कवि ने कहा किताबों के नवराते शुरू हुए। वैसे यह पठन-पाठन का कम, विमोचन का उत्सव अधिक है। जैसे शारदीय नवरात्र में उपवास का जतन जरा कम और सात्विक मिष्ठान आदि का चलन खूब...

    Mon, 07 Jan 2019 11:58 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • प्रजातंत्र की पहचान आंदोलन है। हमारे एक मित्र ‘बंदर बचाओ, देश बढ़ाओ’ के आयोजन में व्यस्त हैं। उन्होंने एक बुकलेट भी तैयार कर ली है। इसमें डार्विन से लेकर बजरंग बली तक का जिक्र है। बंदर...

    Sun, 06 Jan 2019 11:29 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • 1
  • of
  • 30

जब पुलिसवाले ने पप्पू से मुंह खोलने को कहा

एक व्यक्ति शराब पीकर कार चला रहा था और अचानक कार एक खम्भे से टकरा गई...
पुलिसवाला: बाहर निकल
पप्पू: माफ कर दो साहब जी
पुलिसवाला: शराब पी के गाड़ी चलाता है, मुंह खोल
पप्पू: अरे नहीं साहब पहले से खूब पी रखी है और कितना पिलाओगे...