अगली स्टोरी

Meri Kahani Hindustan Column की खबरें

  • पंकज कपूर फिल्म अभिनेता

    शाहिद कपूर मेरे पुत्र हैं, इसलिए ‘एक्टिंग’ को लेकर घर पर उनसे थोड़ी-बहुत बातचीत होती ही रहती थी। मुझे ठीक से याद नहीं कि तब तक उनका करियर शुरू हो चुका था या होने वाला था, तभी उन्होंने...

    Sat, 04 Aug 2018 11:36 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • पंकज कपूर फिल्म अभिनेता

    साल 1989 में मुझे पहली बार नेशनल अवॉर्ड मिला था। बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का वह अवॉर्ड मुझे राख  के लिए मिला था। उस फिल्म में मैंने इंस्पेक्टर का रोल किया था। कयामत से कयामत तक  के बाद वह आमिर...

    Sun, 29 Jul 2018 01:33 AM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • पंकज कपूर

    रंजीत कपूर और सतीश कौशिक फिल्म जाने भी दो यारों  के संवाद लिख रहे थे। कुंदन शाह को अभिनेताओं की तलाश थी। रंजीत के साथ मैंने कई नाटक किए थे। सतीश कौशिक भी मुझे जानते ही थे। मुझे लगता है कि सतीश...

    Sun, 22 Jul 2018 01:32 AM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • पंकज कपूर फिल्म अभिनेता

    माता-पिता की मौजूदगी, उनका जिंदगी जीने का ढंग हमारे सामने एक उदाहरण था। जब मैं दस-बारह साल का था, तभी मैंने तय कर लिया था कि मुझे एक्टिंग करनी है। यह अलग बात है कि इस उम्र में न तो कोई अपनी बात किसी...

    Sat, 14 Jul 2018 11:16 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • पंकज कपूर

    मेरा जन्म लुधियाना में हुआ था, जहां मेरे माता-पिता रहते थे। उस जमाने में लुधियाना छोटा सा शहर था। अब तो बहुत बड़ा हो गया है। छोटे शहरों की जो अच्छाइयां होती हैं, उन सबके साथ मेरा बचपन वहां गुजरा। एक...

    Sun, 08 Jul 2018 01:39 AM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • सुशील कुमार, प्रसिद्ध पहलवान

    खिलाड़ी और ओलंपिक मेडलिस्ट होने का मतलब उस समय पता चलता है, जब आप देश का तिरंगा लेकर आगे-आगे चल रहे होते हैं। मुझे ही नहीं, किसी भी खिलाड़ी को उसी वक्त पता चलता है कि उसने वाकई देश के लिए कुछ किया है।...

    Sat, 30 Jun 2018 11:29 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • सुशील

    मैनचेस्टर में 2002 में कॉमनवेल्थ गेम्स हुए, तो उसमें भारतीय दल के नाम फाइनल होने से छह दिन पहले मेरा नाम कट गया। उस वक्त मैं पूरी तैयारी कर रहा था कि मुझे कॉमनवेल्थ गेम्स में खेलना है। छह दिन पहले...

    Sun, 17 Jun 2018 12:55 AM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • हिन्दुस्तान

    मेरे पुरखों ने पहलवानी की थी। मेरे परदादा को लिखने-पढ़ने का भी शौक था। पापा बताते हैं कि परदादा की लिखी कुछ ऐसी रचनाएं हैं, जिनको गाने में जीभ नहीं हिलती थी। कुछ ऐसी चीजें थीं, जो दोनों होंठों के आपसी...

    Sun, 06 May 2018 12:52 AM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • अन्नु कपूर, फिल्म अभिनेता

    करियर में बहुत सारी फिल्में ऐसी आई हैं, जिन्हें करने का अफसोस हुआ। उस फिल्म को करने की वजह कोई भी हो सकती है, व्यक्तिगत रिश्ता या फिर पैसा, लेकिन बहुत सारी ऐसी फिल्में जरूर हैं, जिन्हें करने का अफसोस...

    Sun, 15 Apr 2018 12:12 AM IST Meri Kahani Meri Kahani Hindustan Column
  • annu kapoor

    मेरे पिताजी एक ऐसे परिवार से थे, जहां नाटक-वाटक सब बकवास माना जाता था। पिताजी थिएटर मालिक थे। उनको नाटक का शौक कैसे चढ़ा, नहीं पता। न तो वह कलाकार थे, न अभिनेता, न निर्देशक, न संगीतकार, फिर भी न जाने...

    Sun, 25 Mar 2018 12:44 AM IST Meri Kahani Meri Kahani Hindustan Column
  • 1
  • of
  • 1

देसी आदमियों की खासियत

संता बिना पानी मिलाये दारू पी रहा था

सोहन– क्या बात है पाजी आपने

पानी भी नहीं मिलाया,

संता – अबे पागल हम देसी आदमी हैं

इतना पानी तो हमारे मुंह में दारू देखकर ही आ जाता है