DA Image
30 अक्तूबर, 2020|4:33|IST

अगली स्टोरी

Hindustan Mansa Vacha Karmana की खबरें

  • पहले एक प्रसंग। एक कमान अधिकारी अपने नए भर्ती लड़ाकों से पूछ रहा था कि बंदूक में लकड़ी के बने निचले हिस्से को, जिसे बट कहा जाता है, बनाने में अखरोट की लकड़ी का ही उपयोग क्यों किया जाता है? एक जवान ने...

    Wed, 28 Oct 2020 11:07 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • अरसे से उनको सुनने की हसरत थी। लेकिन उन्हें सुनने के बाद वह उखड़ गए। क्या कह रहे थे वह? यही न कि मेरी बात सुनो, समझो और करो। आखिर उनसे आगे सोचा ही नहीं गया है। शायद ऐसे ही किसी लम्हे में जर्मन...

    Fri, 23 Oct 2020 11:47 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • आईपीएल के मैच खाली स्टेडियम में हो रहे हैं। इसके बावजूद खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाने के लिए दर्शकों के जोशीले शोर बराबर गूंजते रहते हैं। क्यों? क्योंकि दर्शकों के प्रोत्साहित करने से खिलाड़ियों के मनोबल...

    Tue, 13 Oct 2020 11:36 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • कबीर कहते हैं- दो पाटन के बीच में साबुत बचा न कोय।  इसी प्रकार, दो नावों पर सवारी करने में डूबने का ही खतरा अधिक रहता है। हमारे मन में विचारों की आवाजाही हर समय चलती रहती है और हमें...

    Mon, 12 Oct 2020 10:37 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • चीन में एक कहावत है कि श्रेष्ठ चिकित्सक वह है, जो बीमारी होने से पहले मरीज का इलाज करता है और सामान्य चिकित्सक बीमारी होने के बाद उसका इलाज करता है। अब बीमारी होने से पहले कोई डॉक्टर कैसे उसे देख...

    Sun, 04 Oct 2020 08:39 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • एक शिकारी घने जंगल में भटक गया। कई दिन हो गए। उसके पास खाने को कुछ भी नहीं बचा था। भटकते-ढूंढ़ते उसे एक सेब का पेड़ दिखा। फौरन उसने 15-20 सेब तोड़ लिए। पांच सेब खाने के बाद उसका तन-मन तृप्त हो गया था।...

    Tue, 29 Sep 2020 10:44 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • ओशो अपने हिंदी व्याख्यान के अंत में कहा करते थे, ह्यआज इतना ही।ह्ण आशय था, आज जितना कहना था, कह चुका; अब विराम! इन शब्दों के बारे में मैं जितना सोचती हूं, उतना लगता है कि यह एक गहरा मंत्र हो सकता है,...

    Sun, 20 Sep 2020 09:30 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • अब तो हद हो गई। यह क्या बात हुई कि कोई उनकी जिंदगी के फैसले भी लेने लगे। सोच-सोचकर परेशान थे वह। ‘हम किसी भी हाल में हों, लेकिन दूसरों को अपने पर हावी नहीं करना चाहिए। हर चीज की एक सीमा होती...

    Fri, 11 Sep 2020 09:11 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • दूसरों पर हंसना जितना सरल है, स्वयं पर हंसना उतना ही कठिन। हरेक हंसी नैसर्गिक नहीं होती। कई बार उसमें अंतर्निहित भाव खुलकर अभिव्यक्त नहीं हो पाते। उन्मुक्त हंसी जहां आनंद का विकल्प बन कुछ क्षणों के...

    Thu, 10 Sep 2020 09:37 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • महाकवि भवभूति के उत्तररामचरित  में एक वाक्य है- निकटे जागत्र्ति जाह्नवी, अर्थात नजदीक में ही गंगा जाग रही है। जैसे नदी को कभी नींद नहीं आती, वह सदा गतिमय रहती है, वैसे ही दुख और विपत्ति के...

    Mon, 07 Sep 2020 09:46 PM Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • 1
  • of
  • 14

चुटकुले

कंजूस महिला ने जब दुकानदार से मांगा कम घिसने वाला साबुन, चुटकुला पढ़कर हंसी रोक नहीं पाएंगे आप

कंजूस महिला दुकानदार से -

ऐसा साबुन दो जो कम घिसे
और नहाने के बाद चेहरे पे लाली लाए...


दुकानदार नौकर से -

मैडम को एक ईंट का टुकड़ा दे दो...!!!