DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय कुश्ती संघ ने जारी की ग्रेड प्रणाली, सुशील कुमार और साक्षी मलिक का हुआ डिमोशन

दो बार के ओलंपिक पदकधारी सुशील कुमार और रियो ओलंपिक की कांस्य पदकधारी साक्षी मलिक शीर्ष ग्रेड में जगह नहीं बना सके, दोनों पिछले कुछ समय से फॉर्म से जूझ रहे हैं।

Representational Wrestling Image

भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने शुक्रवार को पहलवानों के लिए अनुबंध प्रणाली की शुरूआत की जिसमें स्टार पहलवान बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट को पूजा ढांडा के साथ 30 लाख रूपये की राशि के शीर्ष ग्रेड ए अनुबंध में शामिल किया गया। इसकी उम्मीद थी कि बजरंग और विनेश को शीर्ष ग्रेड में शामिल किया जाएगा जिन्होंने इस वर्ष क्रमश: राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीते थे। पूजा ने हाल में विश्व चैम्पियनशिप में पदक जीता था और वह ऐसा करने वाली चौथी भारतीय महिला बन गई थीं। 

सुशील कुमार और साक्षी मलिक ग्रेड बी में हैं शामिल         
दो बार के ओलंपिक पदकधारी सुशील कुमार और रियो ओलंपिक की कांस्य पदकधारी साक्षी मलिक शीर्ष ग्रेड में जगह नहीं बना सके, दोनों पिछले कुछ समय से फॉर्म से जूझ रहे हैं। इन दोनों को ग्रेड बी में रखा गया है जिसमें एक साल में 20 लाख रूपए की वित्तीय मदद दी जाएगी। एक साल के बाद अनुबंधों की समीक्षा भी की जाएगी। डब्ल्यूएफआई भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) द्वारा मान्यता प्राप्त एकमात्र राष्ट्रीय खेल महासंघ है जिसने अपने खिलाड़ियों के लिए अनुबंध की पेशकश की है और ऐसा करने वाली बीसीसीआई के बाद दूसरी खेल संस्था है।

Men's HWC 2018: आयरलैंड से कड़े संघर्ष के बाद विश्व चैम्पियन आॅस्ट्रेलिया को मिली जीत
     
ग्रेड की समीक्षा के बाद पहलवान ऊपर नीचे हो सकते हैं
डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष ब्रज भूषण शरण सिंह ने कहा, 'ग्रेड की समीक्षा के बाद पहलवान ऊपर नीचे हो सकते हैं। सुशील ने अपने दो ओलंपिक पदकों से देश में खेल का चेहरा ही बदल दिया है। हमें यह जानते हुए भी उसे सूची में शामिल करना पड़ा, कि वह टूर्नामेंट में इतना भाग नहीं ले रहा है। साक्षी का प्रदर्शन भी उतार-चढ़ाव भरा रहा है लेकिन पहलवान अपने अच्छे प्रदर्शन से अगले वर्ग में ऊपर चढ़ सकते हैं। जूनियर पहलवानों के लिये यह अच्छा है। इससे खिलाड़ी प्रेरित होंगे जिससे पदक, शोहरत आएगी और सहयोग मिलेगा।'

साक्षी ने कहा- शीर्ष ग्रेड में आने के लिए करूंगी मेहनत
साक्षी मलिक ने कहा कि वह शीर्ष ग्रेड में नहीं आने से थोड़ी निराश हैं, उन्होंने कहा, 'हां, मैं शीर्ष ग्रेड में आने की उम्मीद कर रही थी लेकिन एक बार फिर मैं मजबूत प्रदर्शन करूंगी जिससे मेरे पास शीर्ष ग्रेड में जाने का अच्छा मौका होगा।' सी वर्ग में खिलाड़ियों को 10 लाख रूपये का सहयोग मिलेगा। इसमें संदीप तोमर, ग्रीको रोमन पहलवान साजन भानवाल, विनोद ओम प्रकाश, रितु फोगाट, सुमित मलिक, प्रतिभाशाली दीपक पूनिया और एशियाई खेलों की कांस्य पदकधारी दिव्या काकरान शामिल हैं। डी वर्ग में पांच लाख रूपये की मदद मिलेगी। इसमें राहुल अवारे, नवीन, सचिन राठी, ग्रीको रोमन पहलवान विजय, रवि कुमार, सिमरन, मानसी और अंशु मलिक शामिल हैं।

Men's HWC 2018: पहली बार विश्व कप खेल रहे चीन ने अपने से मजबूत इंग्लैंड को ड्रॉ पर रोका

सभी खेलों से जुड़े समाचार पढ़ें सबसे पहले Live Hindustan पर। अपने मोबाइल पर Live Hindustan पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा न्यूज एप। और देश-दुनिया की हर खबर से रहें अपडेट।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Wrestling Federation of India launched its Grading Contract System Olympian Sushil Kumar and Sakshi Malik fall in Second Grade