फोटो गैलरी

Hindi News खेलWFI में फिर से बृज भूषण शरण सिंह के बेटे और करीबियों की जीत के बाद बजरंग पुनिया और साक्षी मलिक ने दी प्रदर्शन करने की धमकी

WFI में फिर से बृज भूषण शरण सिंह के बेटे और करीबियों की जीत के बाद बजरंग पुनिया और साक्षी मलिक ने दी प्रदर्शन करने की धमकी

रेस्लिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया यानी WFI में फिर से भाजपा सासंद और पूर्व अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह के बेटे और करीबियों का दबदबा देखने को मिला। इससे पहलवान नाखुश हैं और उन्होंने प्रदर्शन करने की धमकी दी।

WFI में फिर से बृज भूषण शरण सिंह के बेटे और करीबियों की जीत के बाद बजरंग पुनिया और साक्षी मलिक ने दी प्रदर्शन करने की धमकी
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 15 Feb 2024 05:38 AM
ऐप पर पढ़ें

भारत के शीर्ष पहलवान बजरंग पुनिया और साक्षी मलिक ने भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के पूर्व अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह के बेटे करण भूषण सिंह के उत्तर प्रदेश कुश्ती संघ के अध्यक्ष के रूप में चुने जाने के बाद अपना विरोध फिर से शुरू करने की धमकी दी है। दोनों ओलंपिक पदक विजेता पहलवान इस बात से भी नाखुश हैं कि संजय सिंह - कैसरगंज से भाजपा सांसद बृज भूषण के करीबी हैं, जो यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग द्वारा मंगलवार को महासंघ से निलंबन हटाए जाने के बाद डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष के रूप में लौटेंगे और काम देखेंगे। 

राज्य स्तर पर और डब्ल्यूएफआई में निर्णय लेने की शक्तियां बृज भूषण के वफादारों के हाथों में हैं, साक्षी और बजरंग ने सोशल मीडिया पर अपना विरोध प्रदर्शन फिर से शुरू करने की धमकी दी। करण भूषण सिंह इससे पहले यूपी कुश्ती के उपाध्यक्ष थे। बजरंग ने अपने सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में कहा, “अभी 2-3 दिन पहले, बृजभूषण के बेटे यूपी कुश्ती संस्था के अध्यक्ष बन गए, जबकि उन्होंने कहा था कि उनके परिवार से कोई भी कुश्ती प्रशासन में नहीं आएगा। सरकार ने वादा किया था कि बृज भूषण या उनके रिश्तेदार या सहयोगी खेल पर शासन नहीं करेंगे।” 

टोक्यो ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता ने सरकार से शीघ्र निर्णय लेने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा है कि अगर ऐसा नहीं होता है तो वे फिर से विरोध प्रदर्शन शुरू करने के लिए मजबूर होंगे। बजरंग ने कहा, "मैं सरकार से शीघ्र निर्णय लेने का अनुरोध करता हूं। भले ही IOA (मंत्रालय) ने WFI को निलंबित कर दिया है, WFI ने पुणे में अपने नागरिकों का आयोजन किया, राज्यों में चुनाव हो रहे हैं... WFI को लगता है कि यह सरकार से बड़ा है। हम पहलवान उन सभी लोगों से बात करेंगे जो हमारा समर्थन करते हैं - किसान समूह, खाप पंचायतें, श्रमिक संघ और महिला संगठन - और अगले दो से तीन दिनों में निर्णय लेंगे। मैं सरकार से अनुरोध करता हूं कि हमें फिर से विरोध प्रदर्शन शुरू करने के लिए मजबूर न करें।" 

भारतीय पहलवानों के लिए खुशखबरी, यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग ने हटाया WFI पर लगा बैन, एक जुलाई तक कराने होंगे चुनाव

बता दें कि भाजपा सासंद और तत्कालीन डब्ल्यूएफआई चीफ बृज भूषण पर छह महिला पहलवानों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। साक्षी और बजरंग ने दो बार की विश्व चैंपियनशिप पदक विजेता विनेश फोगाट के साथ मिलकर पिछले साल उनकी गिरफ्तारी की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया था। खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ एक बैठक के बाद विरोध प्रदर्शन बंद कर दिया गया। इस दौरान उनको सरकार से आश्वासन मिला कि बृज भूषण के परिवार से कोई भी डब्ल्यूएफआई चुनाव नहीं लड़ेगा। इसके कुछ दिन बाद इलेक्शन हुए, जिसमें बृज भूषण के करीबी को WFI अध्यक्ष चुना गया, क्योंकि वह जीतने के बाद भाजपा सासंद के साथ नजर आया। हालांकि, चुनावों के तीन दिन बाद 21 दिसंबर को खेल मंत्रालय ने पूरी कमेटी को निलंबित कर दिया था। 

बुधवार को साक्षी ने यह भी कहा कि अगर बृज भूषण के करीबी लोगों को डब्ल्यूएफआई चलाने की इजाजत दी गई तो वह फिर से सड़कों पर उतरेंगी। उन्होंने एक्स पर पोस्ट एक वीडियो में कहा, "संजय सिंह ने UWW के साथ कुछ सेटिंग की है और निलंबन हटवा दिया है। मैंने कुश्ती से संन्यास ले लिया है, लेकिन मैं बृज भूषण और उनके लोगों को महासंघ चलाने और महिला पहलवानों को परेशान नहीं करने दूंगी। अगले कुछ दिनों में, हम विरोध प्रदर्शन में शामिल सभी लोगों से बात करेंगे और भविष्य की कार्रवाई तय करेंगे। मैं सरकार से अनुरोध करती हूं कि बृज भूषण से जुड़े लोगों को डब्ल्यूएफआई से हटा दिया जाए और किसी ऐसे व्यक्ति को शीर्ष पर रखा जाए जो स्वच्छ और सक्षम हो।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें