DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टोक्यो ओलंपिक 2020: सुशील कुमार के वजन वर्ग में होगा घमासान

सुशील के वजन वर्ग में इस समय प्रवीण राणा, अमित धनखड़ और जितेन्द्र अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। इसलिए यह माना जा रहा है कि इस वजन वर्ग से विश्व चैंपियनशिप में जाने के लिए सबसे अधिक घमासान होगा।

sushil kumar  afp

भारतीय कुश्ती महासंघ टोक्यो ओलंपिक के लिए पहली क्वॉलिफाइंग प्रतियोगिता विश्व चैंपियनशिप के लिए चयन ट्रायल आयोजित करेगा और इसमें दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार के 74 किग्रा वर्ग में जगह बनाने के लिए घमासान होगा। भारतीय कुश्ती महासंघ ने शनिवार को बताया कि कजाखिस्तान में होने वाली विश्व चैंपियनशिप टोक्यो ओलंपिक के लिए पहली क्वॉलिफाइंग प्रतियोगिता है और इसके लिए विभिन्न वजन वर्गों के ट्रायल आयोजित किये जाएंगे। हरियाणा के सोनीपत में 26 जुलाई को फ्री स्टाइल वर्ग के ट्रायल में 57, 65, 74, 86, 97 और 125 किग्रा के मुकाबले होंगे।

भारत के लिए 2008 के बीजिंग ओलम्पिक के कांस्य पदक और 2012 के लंदन ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाले सुशील इस समय रूस में ट्रेनिंग कर रहे हैं। अभी यह साफ नहीं है कि वह 26 जुलाई के ट्रायल में हिस्सा ले पाएंगे या नहीं। हालांकि कुश्ती महासंघ ने कहा है कि यदि सुशील ट्रायल में हिस्सा लेना चाहते हैं तो ले सकते हैं। सुशील अदालती विवाद के कारण 2016 के रियो ओलंपिक में हिस्सा नहीं ले पाये थे। 

Hall of Fame Open: लिएंडर पेस अंतिम चार में दूसरे सबसे उम्रदराज

सुशील के वजन वर्ग में इस समय प्रवीण राणा, अमित धनखड़ और जितेन्द्र अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। इसलिए यह माना जा रहा है कि इस वजन वर्ग से विश्व चैंपियनशिप में जाने के लिए सबसे अधिक घमासान होगा। रियो ओलंपिक से पहले नरसिंह यादव ने विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतकर देश को ओलंपिक कोटा दिलाया था। लेकिन बाद में सुशील ने नरसिंह से ट्रायल मांगा और फिर यह मामला अदालत में चला गया।

कुश्ती महासंघ ने इस मामले में नरसिंह का समर्थन किया और नरसिंह बकायदा रियो भी चले गये। लेकिन वहां उनके डोप टेस्ट में दोषी होने की बात सामने आयी और उनपर चार वर्ष का प्रतिबंध लग गया। रियो में भारत के लिए 74 किग्रा वर्ग का स्थान खाली रहा और इसमें कोई पहलवान उतर नहीं सका।

महिला कुश्ती के ट्रायल 28 जुलाई को लखनऊ में होंगे जिसमें 50, 53, 57, 62, 68 और 76 किग्रा के मुकाबले होंगे। महासंघ ने बताया कि चयन प्रक्रिया में दो किग्रा वजन की छूट दी जाएगी और वजन ट्रायल से एक दिन पूर्व लिया जाएगा।

प्रेसिडेंट्स कप में गोल्ड जीतने वाले पहले भारतीय बॉक्सर बने शिवा थापा

महासंघ ने साथ ही बताया कि जिन पहलवानों का चयन राष्ट्रीय शिविर के लिए हुआ है लेकिन वह शिविर में आज तक शामिल नहीं हुये उन्हें ट्रायल में भाग लेने की अनुमति नहीं दी जाएगी। महासंघ के अनुसार विश्व प्रतियोगिता के गैर ओलंपिक चार चार वजनों की चयन प्रक्रिया बाद में आयोजित होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sushil kumar weight category gets competition on 2020 Tokyo Olympics Trials