DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ खेलAIFF ने खेल रत्न अवॉर्ड के लिए सुनील छेत्री और अर्जुन पुरस्कार के लिए बाला देवी के नाम की सिफारिश की

AIFF ने खेल रत्न अवॉर्ड के लिए सुनील छेत्री और अर्जुन पुरस्कार के लिए बाला देवी के नाम की सिफारिश की

एजेंसी ,नई दिल्ली Ezaz Ahmad
Wed, 30 Jun 2021 07:04 PM
AIFF ने खेल रत्न अवॉर्ड के लिए सुनील छेत्री और अर्जुन पुरस्कार के लिए बाला देवी के नाम की सिफारिश की

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने देश के सबसे बड़े खेल पुरस्कार- राजीव गांधी खेल रत्न के लिए करिश्माई कप्तान सुनील छेत्री के नाम की सिफारिश की है। वहीं, भारतीय महिला फुटबॉल टीम की स्ट्राइकर बाला देवी का नाम अर्जुन पुरस्कार के लिए भेजा गया है, जो इस समय स्कॉटिश महिला प्रीमियर लीग में रेंजर्स के लिए खेल रही हैं।

BCCI ने खेल रत्न अवॉर्ड के लिए की आर अश्विन-मिताली राज के नाम की सिफारिश, अर्जुन अवॉर्ड के लिए इन क्रिकेटरों का भेजा नाम

एक सूत्र ने पीटीआई से बात करते हुए कहा, ' हमने खेल रत्न के लिए सुनील छेत्री और अर्जुन पुरस्कार के लिए बाला देवी के नाम की सिफारिश की है। हमने द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए गैब्रियल जोसफ का नाम दिया है।' 

36 साल के छेत्री पिछले कुछ वर्षों से देश और अपने क्लब बेंगलुरू एफसी के लिए बेहतरीन फार्म में हैं। उन्होंने 118 इंटरनेशनल मैच खेले हैं जिसमें 74 गोल दागे है और ये दोनों ही भारतीय रिकार्ड हैं। छेत्री ने कतर में हाल के विश्व कप क्वालीफायर में बांग्लादेश के खिलाफ दो गोल किए जिससे वह सबसे ज्यादा इंटरनेशनल गोल करने वाले एक्टीव फुटबॉलरों की लिस्ट में अर्जेंटीना के स्टार लियोनल मेस्सी से आगे दूसरे स्थान पर पहुंच गए थे। वह हालांकि अभी चौथे स्थान पर खिसक गए हैं। संयुक्त अरब अमीरात के अली मबखूत (76) और मेस्सी (75) ने उनसे पहले पहुंच गए हैं।

'क्रिकेटर ही बनेगा आपका बेटा', बेटे की फुटबॉल स्किल देख इरफान पठान ने लिखा मजेदार कैप्शन

छेत्री को 2019 में पद्म श्री और 2011 में अर्जुन पुरस्कार से नवाजा जा चुका है। वर्ष 2005 में डेब्यू करने के बाद से छेत्री एएफसी चैलेंज कप (2008), सैफ चैम्पियनशिप (2011, 2015), नेहरू कप (2007, 2009, 2012), इंटरकान्टिनेंटल कप (2017, 2018) जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रहे हैं। वह 2011 और 2019 एशियाई कप में भी खेले थे।

वहीं 31 वर्षीय बाला देवी पिछले साल जनवरी में रेंजर्स ऑफ ग्लास्गो से जुड़ने के बाद यूरोप में शीर्ष स्तरीय पेशेवर लीग में खेलने वाली पहली भारतीय महिला फुटबॉलर बनीं। वह 2010 के बाद से देश के लिए 50 से ज्यादा मैच खेल चुकी हैं। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें