DA Image
हिंदी न्यूज़ › खेल › 'शूटर दादी' प्रकाशी तोमर का खेल मंत्री अनुराग ठाकुर को संदेश, बेटियों को मिले ज्यादा से ज्यादा मौके
खेल

'शूटर दादी' प्रकाशी तोमर का खेल मंत्री अनुराग ठाकुर को संदेश, बेटियों को मिले ज्यादा से ज्यादा मौके

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mohan Kumar
Sun, 26 Sep 2021 03:00 PM
'शूटर दादी' प्रकाशी तोमर का खेल मंत्री अनुराग ठाकुर को संदेश, बेटियों को मिले ज्यादा से ज्यादा मौके

हर साल सितंबर महीने में वर्ल्‍ड डॉटर्स डे (World Daughters Day) बेटी दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन बेटियों को धन्यवाद व उनके प्रति प्यार जताने का दिन है। बात करें भारत देश की तो हमारे देश में बेटी दिवस सबसे खास है। समाज में बेटियों के प्रति लोगों को समझाना जरूरी है कि बेटियां बोझ नहीं, बल्कि घर का अहम हिस्सा हैं और आज इस अहम दिन पर 'शूटर दादी' के नाम से मशहूर बागपत (उत्तर प्रदेश) की प्रकाशी तोमर अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म Koo के माध्यम से देश की बेटियों के लिए बड़ा सन्देश दिया है। 

उन्होंने सन्देश में लिखा है, 'अंजुम मुद्गिल, अपूर्वी चंदेला मनु भाकर, पीवी सिद्धु ,साइना नेहवाल, आपका खेल और आपकी जीत 135 करोड़ भारतीयों के चेहरे पर ना सिर्फ एक मुस्कान लाती है, बल्कि परिवार को एहसास भी दिलाती है कि वो भी अपनी बेटी को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करें और उनकी जीत के ताज पर नाज करें। मैं अनुराग ठाकुर से कहना चाहती हूं कि बेटियों को ज्यादा से ज्यादा मौका दीजिए। 

कौन हैं अंजुम मुद्गिल, अपूर्वी चंदेला और मनु भाकर

अंजुम मुद्गिल, अपूर्वी चंदेला और मनु भाकर भारत की युवा शार्प शूटर्स हैं, जिन्होंने अपनी प्रतिभा, हुनर और अपनी मेहनत के दम पर देश को कॉमनवेल्थ, ओलंपिक्स और एशियाई खेलों में पदक दिलाकर गर्व महसूस कराया है।

एक अनुरोध खेल मंत्री अनुराग ठाकुर  के लिए

प्रकाशी तोमर ने अपने सोशल मीडिया पर हाल ही बने खेलमंत्री अनुराग ठाकुर से भी विनती की कि वे भी देश की बेटियों को पूरा मौका देने की कोशिश करें, जिससे की वे अपनी जिन्दगी में भी आगे बड़े और उनसे प्रभावित होकर समाज की सोच में भी एक बदलाव देखने को मिलेगा | 

कौन हैं प्रकाशी तोमर

बॉलीवुड फिल्म 'सांड की आंख' दादी चंद्रो तोमर और प्रकाशी तोमर की रियल लाइफ स्टोरी पर ही आधारित है। इससे पहले भी अभिनेता आमिर खान ने दोनों शूटर दादी की कहानी से प्रभावित होकर उन्हें अपने शो सत्यमेव जयते में भी बुलाया था। बागपत में घर के पुरुषों ने उनकी निशानेबाजी पर आपत्ति जताई थी, लेकिन उनके बेटों, बहुओं और पोते-पोतियों ने उनका पूरा साथ दिया। इसके बाद वे घर से निकलकर पास के रेंज में अभ्यास करने के लिए जा सकीं। शूटर दादी ने वरिष्ठ नागरिक वर्ग में कई पुरस्कार भी हासिल किए, जिनमें स्त्री शक्ति सम्मान भी शामिल है, जिसे स्वयं राष्ट्रपति ने भेंट किया था।

हाल ही में प्रकाशी तोमर की जेठानी और उनकी शूटर साथी चंद्रो तोमर का कोरोना से निधन हो गया था। इसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा में स्थापित शूटिंग रेंज का नाम ख्यातिप्राप्त निशानेबाज चंद्रो तोमर (शूटर दादी) के नाम पर रखे जाने की घोषणा की थी।

संबंधित खबरें