फोटो गैलरी

Hindi News खेलPKL 10 Eliminator: पटना पायरेट्स और हरियाणा स्टीलर्स ने सेमीफाइनल में की एंट्री, आशू मलिक की मेहनत गई बेकार

PKL 10 Eliminator: पटना पायरेट्स और हरियाणा स्टीलर्स ने सेमीफाइनल में की एंट्री, आशू मलिक की मेहनत गई बेकार

PKL 10 Eliminator Match: पटना पायरेट्स और हरियाणा स्टीलर्स ने प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के 10वें सीजन के सेमीफाइनल में एंट्री कर ली है। हरियाणा ने पहली पारी सेमीफाइनल में जगह बनाई है।

PKL 10 Eliminator: पटना पायरेट्स और हरियाणा स्टीलर्स ने सेमीफाइनल में की एंट्री, आशू मलिक की मेहनत गई बेकार
Md.akram एजेंसी,हैदराबादMon, 26 Feb 2024 11:19 PM
ऐप पर पढ़ें

तीन बार की चैंपियन पटना पायरेट्स ने प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के 10वें सीजन के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। पटना ने सोमवार को जीएमसी बालायोगी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स (गाचीबोवली) में खेले गए एलिमिनेटर-1 के रोमांचक मुकाबले में दबंग दिल्ली को 37-35 से हरा दिया। सेमीफाइनल में अब पटना का सामना 28 फरवरी को पुणेरी पलटन से होगा। दबंग दिल्ली के कप्तान आशू मलिक ने सबसे ज्यादा 19 प्वॉइंट लिए जबकि उसका और कोई खिलाड़ी नहीं चल पाया। पटना के लिए सचिन ने नौ, मंजीत और सुधाकर ने पांच-पांच जबकि संदीप कुमार ने भी पांच प्वॉइंट लिए।

तीन बार की चैंपियन पटना पायरेट्स ने धमाकेदार शुरुआत की और पहली ही रेड में सचिन तंवर के सुपर रेड में दो प्वॉइंट हासिल कर लिए। इसके बाद पहले पांच मिनट के खेल में उसने सीजन-8 की चैंपियन दिल्ली के खिलाफ 4-4 बराबरी हासिल कर ली। दिल्ली के एक प्वॉइंट की लीड लेने के बाद पटना ने भी डू ऑर डाई में एक अंक हासिल करके अपनी बढ़त बना ली। मुकाबले में 8-5 की बढ़त के साथ पटना ने फिर सचिन के सुपर रेड के सहारे दबंग दिल्ली को ऑलआउट करके पहले 10 मिनट के खेल में 12-5 का स्कोर कर दिया।

ऑलइन होकर अंदर आने के बाद दबंग दिल्ली ने अगले 10 मिनट के खेल में वापसी करने की कोशिश की। कप्तान आशू मलिक के दम पर पटना की लीड को कम करना शुरू कर दिया। लेकिन पटना के लिए सचिन भी लगातार प्वॉइंट्स हासिल करते जा रहे थे और इससे टीम 15वें मिनट तक 14-9 से आगे थी। इसी बीच, आशू मलिक ने चार प्वॉइंट की सुपर रेड लगाकर मुकाबले को पूरी तरह से पलट दिया। अगली ही मिनट में दबंग दिल्ली ने पटना पायरेट्स को ऑल आउट करके मैच में 16-15 की लीड हासिल कर ली।

आशू ने फिर 17वें मिनट में भी दो प्वॉइंट की सुपर रेड लगाकर अपना सुपर-10 पूरा कर लिया और दिल्ली के स्कोर को 18-15 का कर दिया। लेकिन फिर सुधाकर ने भी दो प्वॉइंट की रेड के साथ पटना पायरेट्स को 19-18 से आगे कर दिया। सुधाकर हालांकि अगली रेड में ऑउट ऑफ बोंड चले गए और दिल्ली ने पहले हाफ की समाप्ति तक 20-19 की लीड दिला दी। दूसरे हाफ के शुरू होने के बाद आशू मलिक ने 23वें मिनट में तीन प्वॉइंट की एक और सुपर रेड के साथ दिल्ली को 23-20 से आगे कर दिया। 28वें मिनट तक दिल्ली की टीम 24-22 से आगे थी। हालांकि तीन बार की चैंपियन ने फिर से वापसी करते हुए मुकाबले के 30वें मिनट तक स्कोर को 25-25 से बराबरी पर ला दिया।

दोनों टीमों के बीच अंतिम 10 मिनट का खेल काफी रोमांचक रहा। जहां दिल्ली के पास दो प्वॉइंट की लीड थी तो पटना ने भी वापसी की उम्मीदें नहीं छोड़ी। दूसरे हाफ में दबंग दिल्ली का डिफेंस गजब कर रहा था और इससे दिल्ली की टीम 35वें मिनट तक 28-26 से आगे थी। 26वें मिनट में संदीप कुमार ने दो प्वॉइंट की सुपर रेड के दम पर पटना पायरेट्स को लीड दिला दी। इसी बीच, दिल्ली के सिर्फ दो रेडर ने मिलकर मंजीत का सुपर टैकल कर
लिया और दिल्ली को फिर से 31-29 से लीड मिल गई। 

मैच को समाप्त होने में केवल दो मिनट का समय बचा था था और दिल्ली ने फिर सचिन का सुपर टैकल करके स्कोर को 33-30 तक पहुंचा दिया। लेकिन पटना ने लगातार दो अंक लेकर वापसी का बिगुल बजा दिया मुकबला 32-32 से बराबरी पर आई गई। हालांकि फिर दबंग दिल्ली ऑल आउट हो गई और पटना ने 35-33 का स्कोर कर लिया। अंतिम मिनटों में मंजीत ने एक और अंक ले लिया और इसके साथ ही वह सेमीफाइनल में पहुंच गई। पटना ने इसके साथ ही दबंग दिल्ली को 37-35 से हरा दिया।

वहीं, हरियाणा स्टीलर्स ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए पहली बार पीकेएल के सेमीफाइनल में जगह बनाई। हरियाणा ने गाचीबोवली में खेले गए एलिमिनेटर-2 मुकाबले में गुजरात जायंट्स को 42-25 से मात दी। सेमीफाइनल में अब 28 फरवरी को हरियाणा के सामने मौजूदा चैंपियन जयपुर पिंक पैंथर्स की चुनौती होगी। इस हार के साथ ही गुजरात की टीम इस सीजन से बाहर हो गई।  हरियाणा स्टीलर्स के लिए अहम मुकाबले में विनय ने 12, मोहित नांदल ने सात और शिवम पटारे ने आठ अंक लिए। गुजरात के लिए परतीक दहिया ने पांच और राकेश ने पांच अंक लिए। 

दोनों टीमों के बीच पहले पांच मिनट के खेल में मुकाबला काफी कड़ा रहा, लेकिन हरियाणा स्टीलर्स ने 5-3 से खुद को आगे रखा। डिफेंस में लगातार बेहतर खेल के दम पर हरियाणा ने सातवें मिनट तक खुद को 9-4 से आगे कर लिया। हरियाणा ने फिर नौवें मिनट में गुजरात जायंट्स को ऑलआउट करके स्कोर को 12-6 का कर दिया। लेकिन ऑल इन होकर अंदर आने के बाद परतीक दहिया ने तीन प्वॉइंट की सुपर रेड के साथ गुजरात के लिए वापसी के दरवाजे खोल दिए। इसके बावजूद पहले 10 मिनट के खेल में हरियाणा स्टीलर्स की टीम 12-9 से आगे थी। 

गुजरात ने इसके बाद लगातार अंक लेते हुए मैच के 13वें मिनट में हरियाणा को ऑल आउट कर दिया और 15-14 की बढ़त कायम कर ली। 16वें मिनट तक दोनों टीमें 16-16 की बराबरी पर थी। इसी बीच, हरियाणा स्टीलर्स ने डिफेंस में अंक लेते हुए एक बार फिर से मैच में अपनी लीड कायम कर ली। अगले ही मिनट में ही विनय ने एक और अंक लेकर हरियाणा को 19-16 से आगे कर दिया। यहां से हरियाणा स्टीलर्स की लीड मजबूत होती चली गई और विनय के डू ऑर डाई में एक अंक के सहारे पहले हाफ की समाप्ति तक 21-16 की लीड कायम कर ली।

ब्रेक से वापस आने के बाद हरियाणा ने 22वें मिनट में गुजरात को एक बार फिर से ऑल आउट कर दिया और 25-16 की लीड कायम कर ली। स्टीलर्स के पास अब 10 प्वॉइंट की लीड हासिल हो चुकी थी और 25वें मिनट तक उसने इसे और ज्यादा मजबूत कर लिया। इसी बीच, स्टीलर्स के लिए मोहित नांदल ने इस सीजन का अपना छठा हाई-5 भी पूरा कर लिया। डिफेंस में लगातार प्वॉइंट के दम पर स्टीलर्स ने मुकाबले में काफी आगे निकल चुकी थी। 

मैच के 29वें मिनट में विनय ने तीन प्वॉइंट की सुपर रेड के साथ अपना सुपर-10 भी पूरा कर लिया। हरियाणा ने फिर इसी के साथ गुजरात को फिर से ऑल आउट करके 30वें मिनट तक स्कोर को 36-19 तक पहुंचा दिया। हरियाणा स्टीलर्स ने अंतिम 10 मिनट के खेल में भी अपना दमदार प्रदर्शन जारी रखा और लगातार अंक लेते हुए मैच के 35वें मिनट तक 40-21 की विशाल लीड कायम कर ली। हरियाणा स्टीलर्स ने इसके बाद अपनी लीड को कायम रखते हुए गुजरात को 42-25 से हराकर पहली बार सेमीफाइनल में अपनी जगह बना ली।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें