DA Image
21 जनवरी, 2020|8:20|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तान टेनिस प्रमुख ने किया वादा, डेविस कप से पहले चाकचौबंद होगी सुरक्षा

भारतीय टेनिस टीम 55 साल बाद पाकिस्तान जाने की तैयारी में है। पाकिस्तान ने पिछली बार 1964 में भारत की मेजबानी की थी जब मेहमान टीम ने लाहौर में 4-0 से जीत दर्ज की थी।

davis cup trophy  afp getty images

भारतीय टीम की सुरक्षा चिंताओं को दूर करने का प्रयास करते हुए पाकिस्तान टेनिस महासंघ (पीटीएफ) के अध्यक्ष सलीम सैफुल्लाह ने डेविस कप मुकाबले के दौरान मेहमान टीम को 'बेहद सुरक्षित माहौल मुहैया कराने का आश्वासन दिया है। पाकिस्तान 12 साल में पहली बार डेविस कप मुकाबले की मेजबानी की तैयारी कर रहा है। पीटीएफ प्रमुख ने साथ ही कहा कि वे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 14-15 सितंबर को होने वाले इस मुकाबले के लिए आमंत्रित करने की योजना बना रहा हैं। उन्होंने साथ ही मेहमान टीम और प्रशंसकों के लिए यादगार मेहमाननवाजी का वादा किया।

सलीम ने पीटीआई से कहा, ''हम भारतीय टीम का उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं। भारतीय प्रशंसकों और खिलाड़ियों के लिए अच्छे इंतजाम किए जाएंगे। हम बेहद सुरक्षित माहौल में मुकाबले की मेजबानी करेंगे।'' उन्होंने कहा, ''इस मुकाबले को लेकर पाकिस्तान में काफी रोमांच है। सभी खुश हैं। यह बेहतर होगा कि हम एक-दूसरे की ओर टेनिस की गेंद फेंकें, बम नहीं। मुझे भरोसा है कि भारतीय टीम पाकिस्तान की मेहमाननवाजी से प्रभावित होगी।''

विनेश फोगाट ने एक महीने में जीता तीसरा गोल्ड, खेलमंत्री ने दी बधाई

भारतीय टेनिस टीम 55 साल बाद पाकिस्तान जाने की तैयारी में है। पाकिस्तान ने पिछली बार 1964 में भारत की मेजबानी की थी जब मेहमान टीम ने लाहौर में 4-0 से जीत दर्ज की थी। पाकिस्तान के खिलाड़ियों की सुरक्षा के बारे में याद दिलाए जाने पर सलीम ने आश्वासन दिया कि कोई भी अप्रिय घटना नहीं होगी।

उन्होंने कहा, ''आईटीएफ के सलाहकार तीन दिन यहां रहे और उन्होंने प्रत्येक चीज का निरीक्षण किया। इस्लामाबाद दिल्ली, लाहौर या मुंबई की तरह बड़ा शहर नहीं है। यहां की जनसंख्या 20 लाख से कम है।'' सलीम ने कहा, ''संसद, राष्ट्रपति आवास और प्रधानमंत्री आवास यहां होने के कारण पूरे इलाके को 'रेड जोन घोषित किया गया है। मुझे यकीन है कि कुछ भी अप्रिय नहीं होगा और भारतीय खिलाड़ी सहज रहेंगे।''

उन्होंने कहा, ''जब आईटीएफ ने हमें मुकाबले की मेजबानी की स्वीकृति दी तो यह इस आधार पर थी कि सरकार आतंकवादियों और आतंकवाद के खिलाफ लगातार अभियान चला रही है। 2010 की घटना में और 2019 में काफी अंतर है, हमारे यहां काफी सुधार हुआ है।'' सलीम खेल कूटनीति के बड़े समर्थक हैं और उनका मानना है कि इसका इस्तेमाल दोनों देशों के बीच रिश्तों को सामान्य करने के लिए किया जा सकता है।

उन्होंने कहा, ''पाकिस्तान के लोग भारत जाना चाहते हैं और भारत के लोग भी पाकिस्तान आना चाहते हैं। उम्मीद करता हूं कि ये यात्राएं शुरू होंगी। इससे खेले को मदद मिलेगी। भारत हमारा पड़ोसी देश है और हमारे खिलाड़ी बेहद कम खर्चे पर ट्रेनिंग के लिए वहां जा सकते हैं और आपके खिलाड़ियों के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं।'' सलीम ने कहा, ''यह शुरुआत है, देखते हैं क्या होता है। हमारा खिलाड़ी ऐसाम और रोहन बोपन्ना 2013 में अमेरिकी ओपन के फाइनल में पहुंचे थे और मैंने न्यूयार्क में उनका सेमीफाइनल मुकाबला देखा था। मैं उम्मीद करता हूं कि स्थिति में सुधार होगा।''

जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर बबीता फोगाट का ट्वीट- 'लठ गाड़ दिया'

उन्होंने कहा, ''हम इस्लामाबाद में मुकाबला देखने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित करने की योजना बना रहे हैं।'' सलीम से जब पूछा गया कि पांच दशक से भी अधिक समय बाद भारत की मेजबानी करना क्या मायने रखता है तो उन्होंने कहा, ''यह अल्लाह की दुआ है कि पहली बार भारतीय टेनिस टीम इस्लामाबाद आ रही है।'' उन्होंने कहा, ''स्वतंत्रता के बाद एक टीम लाहौर (1964) आई थी। मुझे लगता है कि यह दोनों देशों के लिए अच्छा मौका है कि वे परिपक्वता दिखाएं। हमें राजनीति और खेल को मिलाना नहीं चाहिए।''

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Pakistan tennis chief promises India full-proof security ahead of Davis Cup tie