DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: 19 साल के युवा की मदद को आगे आए किरेन रिजिजू

 shivraj singh chouhan twitter

मध्यप्रदेश के एक 19 साल के युवा धावक का वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो रहा है, जिसमें उसे 100 मीटर की रेस करीब 11 सेकंड में पूरी करते देखा जा रहा है। उसकी प्रतिभा से प्रभावित होकर केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने उसकी मदद करने की घोषणा की है। केद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू ने मध्य प्रदेश का 'उसेन बोल्ट' कहे जाने वाले रामेश्वर गुर्जर को एथलेटिक्स अकादमी में डालने और प्रशिक्षित करने का आश्वासन दिया है। इसके बाद भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने रामेश्वर को अतिशीघ्र मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित साई सेंटर पहुंचने के लिए कहा है।

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो को ट्विटर पर शेयर किया और लिखा, “भारत में टैलेंटेड व्यक्तियों की कमी नहीं है, अगर उन्हें सही मौका और स्थान मिले तो वे इतिहास रच सकते हैं। मैं खेल मंत्री किरण रिजिजू से इस युवा खिलाड़ी की मदद करने का आग्रह करता हूं ताकि इसके स्किल को और बेहतर किया जा सके।”

भारतीय महिला हॉकी टीम ने जीत से की ओलंपिक टेस्ट इवेंट की शुरुआत, जापान को 2-1 से हराया

रामेश्वर मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के निवासी हैं। वह नंगे पैर दौड़ते हुए 100 मीटर दौड़ 11 सेकेंड में पूरी करने में सफल रहे थे। इसे देखते हुए मध्य प्रदेश के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने भी रामेश्वर को भोपाल में बेहतर प्रशिक्षण देने की बात कही थी। पटवारी ने बीते दिनों रामेश्वर को भोपाल आमंत्रित करते हुए अधिकारियों से कहा, “ऐसी प्रतिभा को बेहतर खेल सुविधा, अच्छे शूज और प्रशिक्षण दिया जाए, तो वह 100 मीटर की दूरी नौ सेकेंड में ही तय कर सकता है।”

 खेल मंत्री ने रामेश्वर की तरह उभरती ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करने के लिए हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया था।

रिजिजू ने चौहान के इस ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, “शिवराज सिंह चौहान जी कृपया किसी को कहें वह इस खिलाड़ी को मुझ तक पहुंचाए। मैं इसे एथलेटिक अकादमी में डालने का इंतजाम करूंगा।”

100 मीटर का विश्व रिकॉर्ड जमैका के उसेन बोल्ट के नाम है। उन्होंने 100 मीटर की दूरी महज 9.58 सेकेंड में पूरी की है। रामेश्वर गुर्जर ने 10वीं कक्षा तक पढ़ाई की है। उनके परिवार में माता-पिता और पांच भाई-बहन हैं। पूरा परिवार खेती-किसानी करता है। रामेश्वर ने परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण आगे पढ़ाई नहीं की। रामेश्वर खेल मंत्री के आमंत्रण से खुश है। रामेश्वर का कहना है कि उन्हें एक मौका भर मिल जाए, तो किसी भी रेस में प्रदेश और देश का नाम रोशन कर के रहेंगे।

रिजिजू के इस प्रस्ताव पर भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “खेल मंत्री ने रामेश्वर को हर सम्भव सहायता देने का आश्वासन दिया है। उन्हें भोपाल के साई सेंटर बुलाया गया है। रामेश्वर को साई सेंटर में ट्रेनिंग के लिए सभी सुविधाएं दी जाएंगी।”

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kiren Rijiju and Shivraj Singh Chouhan come together to help 19 year-old aspiring athlete