DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: गोल्ड जीतने को बेताब श्रीकांत, कही ये बात...

भारत के शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत ने कहा कि देश के लिए कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल जीतना, उनकी पहली प्राथमिकता है। उन्होंने कहा है कि उनके लिए इस बड़े टूर्नामेंट में पदक हासिल करना रैंकिंग में टॉप पर पहुंचने से भी ज्यादा जरूरी है। बता दें कि चार साल पहले 'ब्रेन फीवर' के कारण राष्ट्रमंडल खेलों में श्रीकांत का पदार्पण अच्छा नहीं रहा था। 

लेकिन वह अब बीती बात है और अब श्रीकांत देश के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक हैं। उनके नाम पर चार खिताब हैं और उन्होंने पदमश्री सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कार भी हासिल किये। उन्हें अब गोल्ड कोस्ट में स्वर्ण पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। श्रीकांत ने 2014 की घटना को याद करते हुए कहा, 'वह किसी वाइरस की वजह से हुआ था जिसका मुझे नाम भी याद नहीं। कोई भी मुझे दिन की घटना के बारे में नहीं बताना चाहता और मुझे भी कुछ याद नहीं है।' 

कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: निशानेबाजी के नाम पर खेलों का बहिष्कार सही नहीं- जीतू राय

बाथरूम में बेहोश मिले थे श्रीकांत
आपको बता दें कि ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों से कुछ सप्ताह पहले श्रीकांत बीमार पड़ गये थे। उन्हें गोपीचंद अकादमी में बाथरूम के फर्श पर बेहोश पाया गया था। बाद में पता चला कि उन्हें मस्तिष्क ज्वर है। उन्हें एक सप्ताह तक आईसीयू में रहना पड़ा था।

श्रीकांत ने कहा कि मैं अच्छा खेल रहा था इसलिए मैंने वापसी की और राष्ट्रमंडल खेलों में खेला, लेकिन क्वार्टर फाइनल में सिंगापुर के खिलाड़ी से हार गया। श्रीकांत ने कहा, 'अब चार साल बाद मुझे लगता है कि पिछले एक साल में मैंने जो अनुभव हासिल किया उससे मैं आत्मविश्वास से भरा हूं इसलिए यह अलग तरह का अनुभव होगा। निश्चित तौर पर राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतना मेरी प्राथमिकता है।' उन्होंने कहा, 'विश्व का नंबर एक खिलाड़ी बनने से अधिक महत्वपूर्ण पदक जीतना है। यह मेरा इस वर्ष का एक लक्ष्य है।'

CWG 2018: जिम्नास्टिक टीम कर रही है कोच का इंतजार, पड़ रहा तैयारियों पर असर

32 साल बाद कश्यप ने दिलाया था गोल्ड
गौरतलब है कि पारूपल्ली कश्यप ने ग्लास्गो में राष्ट्रमंडल खेलों का स्वर्ण पदक जीतकर भारत को 32 साल बाद पुरूष एकल में खिताब दिलाया था। अब श्रीकांत पर देश के करोड़ों लोगों की उम्मीदें टिकी रहेंगी। कश्यप से पहले केवल प्रकाश पादुकोण (1978) और सैयद मोदी (1982) ही इन खेलों में बैडमिंटन पुरूष एकल का स्वर्ण जीत पाये थे। 

श्रीकांत ने कहा कि पिछली बार हमने अच्छी संख्या में पदक जीते थे और अब हम चार साल पहले की तुलना में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं और हमारी अधिक पदक जीतने की अच्छी संभावना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:kidambi shrikanth says his priority is to win medal at commonwealth games in gold coast