DA Image
18 नवंबर, 2020|10:15|IST

अगली स्टोरी

अंतरराष्ट्रीय बास्केटबॉल खिलाड़ी रमन गुप्ता का 67 की उम्र में निधन

एशियाई खेलों में दो बार भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके बास्केटबॉल खिलाड़ी रमन गुप्ता (67) का हार्ट अटैक से निधन हो गया है। राजस्थान में अलवर के रमन गुप्ता की सुबह करीब 10 बजे तबीयत खराब होने लगी, तो उनकी पत्नी उन्हें अपने बहनोई डॉक्टर सुनील रस्तोगी के शांतिकुंज स्थित अस्पताल अलवर नर्सिंग होम लेकर पहुंची, जहां हार्ट अटैक हुआ और उनकी मौत हो गई। 

रमन गुप्ता बास्केटबॉल के उच्च स्तरीय खिलाड़ी रहे। उन्होंने कई बार अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने विद्याथीर् जीवन से ही उन्होंने बास्केटबॉल के निपुण खिलाड़ी के रूप में पहचान बनाई। उन्हें पहली बार वर्ष 1970 में राष्ट्रीय जूनियर चैंपियनशिप में राजस्थान टीम की ओर से खेलने का अवसर मिला। वह जूनियर राष्ट्रीय चैंपियन के सदस्य रहे। उन्हें वर्ष 1971 में एनार्कुलम में आयोजित बास्केटबॉल प्रतियोगिता के लिए चुना गया। वर्ष 1972 में  रमन गुप्ता को भारतीय जोन टीम का कप्तान बना कर मनीला भेजा गया। जहां उनकी कप्तानी में टीम ने उत्कृष्ट खेल-प्रदर्शन किया। 

पूर्व भारतीय गोलकीपर भास्कर मैती का नवी मुंबई में हुआ निधन

उनके जीवन का उत्कर्ष काल उस समय आया, जब उन्हें वर्ष 1974 और 1978 के एशियाड में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिला। इस दौरान श्री गुप्ता ने वर्ष 1975 एवं 1976 में बैंकॉक एवं पाकिस्तान में आयोजित अंतरराष्ट्रीय बास्केटबॉल चैंपियनशिप में अपने खेल-कौशल के जलवे दिखाते हुए टीम को सफलता के मुकाम तक पहुंचाया। एशियाड खेलों में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करने वाले रमन गुप्ता को खेल-जगत से भरपूर प्रशंसा, प्यार और शौहरत मिली। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल कर उन्होंने भारतीय टीम को बुलंदियों तक पहुंचाने के लिए पुरजोर मेहनत की और प्रतिद्वंद्वी टीम को अपनी खेल प्रतिभा का लोहा मनवाया।

बॉस्केटबॉल खेल जगत को अभी रमन गुप्ता से बहुत उम्मीदें थीं, लेकिन बाद में वह इस खेल से विमुख हो गये और ऑटोमोबाइल के व्यवसाय से जुड़ गए। उनके पिता नारायण दत्त गुप्ता अलवर शहर के प्रसिद्ध उद्यमी एवं साहित्यिक रुझान के व्यक्ति थे। रमन गुप्ता ने अपने पिता नारायण दत्त  के कारोबार को संभाल कर तरक्की की नई राह दिखाई। अपनी व्यावसायिक व्यस्तताएं बढ़ जाने से रमन दिवंगत गुप्ता ने आठवें  दशक के उत्तरार्ध में खेल से संन्यास ले लिया। उनसे प्रेरित होकर उनकी बहन ने डॉ. वीणा गुप्ता ने भी बास्केटबॉल में नाम-यश अर्जित किया था।

भारत के सुमित नागल प्राग ओपन के क्वार्टर फाइनल में, अब होगी स्टैन वावरिंका से भिड़ंत

दिवंगत रमन गुप्ता विभिन्न  बास्केटबॉल संघों  के पदाधिकारी एवं मत्स्य स्पोट्र्स एकेडमी के निदेशक रहे। वह विनायक चैरिटेबल सोसायटी के अध्यक्ष भी रहे। उन्हें बागवानी का भी शौक रहा। वह जयपुर रोड पर स्थित अपने फार्म हाउस शांति फलोद्यान में आर्गेनिक खेती को बढ़ावा देते रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:International basketball player Raman Gupta dies at 67