DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ खेलTokyo Olympics 2020: मेंस हॉकी में बेल्जियम ने तोड़ा भारत का स्वर्णिम सपना, कांस्य की आस बरकरार

Tokyo Olympics 2020: मेंस हॉकी में बेल्जियम ने तोड़ा भारत का स्वर्णिम सपना, कांस्य की आस बरकरार

एजेंसी ,टोक्यो Ezaz Ahmad
Tue, 03 Aug 2021 10:17 AM
Tokyo Olympics 2020: मेंस हॉकी में बेल्जियम ने तोड़ा भारत का स्वर्णिम सपना, कांस्य की आस बरकरार

भारतीय पुरुष हॉकी टीम का 41 साल बाद ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने का सपना मंगलवार को यहां बेल्जियम के हाथों सेमीफाइनल में 2-5 से करारी हार के साथ टूट गया लेकिन टोक्यो खेलों में टीम अब भी कांस्य पदक की दौड़ में बनी हुई है। भारतीय टीम एक समय बढ़त पर थी लेकिन अंतिम 11 मिनट में तीन गोल गंवाने और एलेक्जेंडर हैंड्रिक्स (19वें, 49वें और 53वें मिनट) की हैट्रिक उस पर भारी पड़ गई। विश्व चैंपियन बेल्जियम की तरफ से हैंड्रिक्स के अलावा लोइक फैनी लयपर्ट (दूसरे) और जॉन जॉन डोहमेन (60वें मिनट) ने भी गोल किए। भारत की तरफ से हरमनप्रीत सिंह ने सातवें और मनदीप सिंह ने आठवें मिनट में गोल दागे।

Tokyo Olympics 2020: पूर्व कप्तान दिलीप टिर्की ने बताया, बेल्जियम के खिलाफ भारतीय पुरुष हॉकी टीम से कहां हुई गलती 

बेल्जियम रियो ओलंपिक का रजत पदक विजेता है और उसने इस तरह से लगातार दूसरी बार ओलंपिक फाइनल में जगह बनाई है, जहां अब उसका सामना ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी के बीच दूसरे सेमीफाइनल के विजेता से होगा। भारत ने आखिरी बार मास्को ओलंपिक 1980 में फाइनल में जगह बनाई थी और तब टीम ने अपने आठ स्वर्ण पदकों में से आखिरी स्वर्ण पदक जीता था। 

Tokyo Olympics: भाला फेंक एथलीट अन्नु रानी फाइनल के लिए क्वालीफाई करने से चूकीं

सेमीफाइनल में हार के लिए भारतीय टीम ही दोषी रही क्योंकि बेल्जियम ने चार गोल पेनल्टी कार्नर पर किए। विश्व चैंपियन टीम ने भारतीय डिफेंस पर लगातार दबाव बनाए रखा और 14 पेनल्टी कार्नर हासिल किए जिनमें से चार को उसने गोल में बदला। बेल्जियम की शुरू से ही रणनीति स्पष्ट थी कि भारतीय सर्कल में घुसकर पेनल्टी कार्नर हासिल करना है क्योंकि उसके पास हैंड्रिक्स और लयपर्ट के रूप में दो पेनल्टी कार्नर विशेषज्ञ हैं। उन्होंने अपनी इस रणनीति पर अच्छी तरह से अमल किया तथा हैंड्रिक्स और लयपर्ट ने भी उन्हें निराश नहीं किया। भारत ने भी पांच पेनल्टी कार्नर हासिल किए, लेकिन इनमें से वह केवल एक पर ही गोल कर पाया।

भारतीय टीम 49 वर्ष बाद ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंची थी। उसके पास अब भी कांस्य पदक जीतने का मौका है जिसके लिये वह गुरुवार को आस्ट्रेलिया या जर्मनी से भिड़ेगी। भारत ने धीमी शुरुआत की जबकि बेल्जियम ने शुरू में ही मैच पर नियंत्रण बना दिया और इस बीच एक गोल भी दागा। बेल्जियम अपने पहले आक्रमण पर ही पेनल्टी कार्नर हासिल करने में सफल रहा जिसे लयपर्ट ने ताकतवर फ्लिक से गोल में बदला। भारतीयों ने हालांकि दमदार वापसी और दो मिनट के अंदर दो गोल करके मैच के समीकरण बदल दिए। भारत ने सातवें मिनट में दो पेनल्टी कार्नर हासिल किए जिनमें से दूसरे को हरमनप्रीत ने बड़ी खूबसूरती से गोल में बदला। यह उनका टूर्नामेंट में पांचवां गोल है।

अभी तक अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने के कारण दबाव झेल रहे मनदीप ने इसके एक मिनट बाद मैदानी गोल दागकर भारत को बढ़त दिला दी। मनदीप को अमित रोहिदास से दायें छोर से पास मिला और उन्होंने ताकतवर रिवर्स हिट से उसे गोल के हवाले कर दिया। बेल्जियम के गोलकीपर विन्सेंट वनास्च देखते ही रह गये। भारत को पहले क्वार्टर में एक और मौका पेनल्टी कार्नर के रूप में मिला लेकिन विन्सेंट ने रूपिंदरपाल सिंह का शॉट रोक दिया। एक गोल से पिछड़ने के बाद बेल्जियम ने दूसरे क्वार्टर में लगातार हमले किए और भारतीय रक्षापंक्ति को दबाव में रखा। भारत ने इस बीच चार पेनल्टी कार्नर गंवाए जिनमें से आखिरी को हैंड्रिक्स ने गोल में बदलकर स्कोर बराबर किया। इसके कुछ मिनट बाद श्रीजेश ने डोकियर का प्रयास नाकाम किया।

बेल्जियम ने जल्द ही मैच में अपना छठा पेनल्टी कार्नर हासिल किया लेकिन भारतीयों ने उसका बचाव कर दिया। मध्यांतर से ठीक पहले भारत को पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन हरमनप्रीत का शॉट बाहर चला गया। भारतीयों को 38वें मिनट में भी पेनल्टी कार्नर मिला था लेकिन वे इस पर भी गोल नहीं कर पाए थे। तीसरे क्वार्टर के बाद भी दोनों टीमें 2-2 से बराबरी पर थी लेकिन बेल्जियम चौथे क्वार्टर में पूरी तरह से बदली हुई टीम नजर आई। बेल्जियम ने आक्रामक तेवर अपनाये और 49वें मिनट में लगातार तीन पेनल्टी कार्नर हासिल किए। हैंड्रिक्स ने फिर से अपनी महारत दिखायी और अपनी टीम को 3-2 से आगे कर दिया।

इसके बाद तो बेल्जियम की टीम पूरी तरह से हावी हो गई। भारतीय डिफेंडरों ने गलतियां की और लगातार तीन पेनल्टी कार्नर गंवाए। विश्व चैंपियन टीम को इसके बाद पेनल्टी स्ट्रोक मिला जिसे हैंड्रिक्स ने आसानी से गोल में बदलकर अपनी हैट्रिक पूरी की। भारत ने दो गोल से पिछड़ने के बाद गोलकीपर श्रीजेश को हटा दिया लेकिन उसका यह फैसला गलत साबित हुआ क्योंकि डोहमेन ने खाली गोल में आसानी से अपनी टीम का पांचवां गोल दागा।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें