DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   खेल  ›  भारत ने टोक्यो ओलंपिक के लिए चुनी महिला हॉकी टीम, 8 खिलाड़ी करेंगी डेब्यू
खेल

भारत ने टोक्यो ओलंपिक के लिए चुनी महिला हॉकी टीम, 8 खिलाड़ी करेंगी डेब्यू

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Hemraj Chauhan
Thu, 17 Jun 2021 09:46 PM
भारत ने टोक्यो ओलंपिक के लिए चुनी महिला हॉकी टीम, 8 खिलाड़ी करेंगी डेब्यू

भारत ने 23 जुलाई से आठ अगस्त तक चलने वाले टोक्यो खेलों के लिए 16 सदस्यीय महिला हॉकी टीम चुनी है। इसमें आठ खिलाड़ी ओलंपिक में डेब्यू करेंगी जबकि इतनी ही अनुभवी खिलाड़ी शामिल हैं। टीम में युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का अच्छा मिश्रण है और आठ खिलाड़ी 2016 रियो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं।
    
स्टार स्ट्राइकर रानी रामपाल हालांकि ओलंपिक से पहले टीम की अगुआई कर रहीं थी लेकिन राष्ट्रीय चयनकर्ताओं ने अभी टोक्यो जाने वाली टीम की कप्तान नहीं चुनी है। हालांकि इसकी जानकारी रखने वाले अधिकारियों के अनुसार रानी के टोक्यो में टीम की कप्तानी संभालने की उम्मीद है लेकिन अभी पुष्टि का इंतजार है। ओलंपिक में डेब्यू करने वाली आठ खिलाड़ी ड्रैग फ्लिकर गुरजीत कौर, उदिता, निशा, नेहा, नवनीत कौर, शर्मिला देवी, लालरेमसियामी और सलीमा टेटे हैं। लालरेमसियामी टीम में जगह बनाने वाली मिजोरम की पहली खिलाड़ी हैं।
    
टेटे ने ब्यूनर्स आयर्स में हुए 2018 युवा ओलंपिक खेलों में भारतीय टीम की अगुआई की थी जिसने रजत पदक जीता था। पिछले ओलंपिक में टीम का हिस्सा रही आठ अनुभवी खिलाड़ियों में कप्तान रानी के अलावा गोलकीपर सविता, दीप ग्रेस एक्का, सुशीला चानू पुखराम्बाम, मोनिका, निक्की प्रधान, नवजोत कौर और वंदना कटारिया शामिल हैं।  इन आठ खिलाड़ियों को मिलाकर कुल 1492 मैचों का अनुभव है। टीम में महज एक गोलकीपर सविता, चार डिफेंडर, छह मिडफील्डर और पांच फॉरवर्ड हैं।  झारखंड की सलीमा टेटे और निक्की प्रधान का टोक्यो ओलिंपिक के लिए भारतीय महिला हॉकी टीम में चयन हुआ है। सिमडेगा की सलीमा झारखंड से हॉकी खेल में ओलंपिक में जाने वाली दूसरी महिला खिलाड़ी हैं। निक्की पहली खिलाड़ी है। दोनों अभी बेंगलुरु में कैंप में हैं।
    
भारतीय महिला हॉकी टीम तीसरी बार ओलंपिक खेलों में शिरकत करेगी और यह लगातार दूसरी बार है। टीम ने 1980 और 2016 में ओलंपिक के लिये क्वालीफाई किया था। रियो ओलंपिक 2016 के बाद से महिला टीम का प्रदर्शन लगातार अच्छा ही होता गया जिसने इसी वर्ष एशियाई चैम्पियंस ट्राफी, 2017 एशिया कप और 2018 एशियाई खेलों में रजत पदक जीता।टीम ने पहली बार 2018 महिला विश्व कप के क्वार्टरफाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया। भारतीय महिला हाकी टीम के मुख्य कोच सोर्ड मारिन ने कहा, 'इस टीम ने पिछले कुछ वर्षों में काफी कड़ी मेहनत की है और लगातार प्रगति की है। टीम में अनुभवी और युवा प्रतिभाओं का अच्छा मिश्रण है जो शानदार है। हम टोक्यो में दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों से भिड़ने को तैयार हैं। इस टीम में काफी संभावनायें और जज्बा है जिससे हमें उम्मीद है कि हम अपनी ऊर्जा को सही दिशा में लगाकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दे पाएंगे।' 
    
हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निगोम्बाम ने चुनी हुई खिलाड़ियों को सफलता की कामना की और टोक्यो में उनके शानदार प्रदर्शन की उम्मीद जताई। उन्होंने कहा, 'पिछले कुछ वर्षों में, ओलंपिक के इस चरण तक महिला टीम ने मौजूदा फार्म हासिल करने के लिए काफी कड़ी मेहनत की है। मुझे पूरा भरोसा है कि यह टीम किसी भी प्रतिद्वंद्वी को कड़ी चुनौती देगी। मैं उनकी तैयारियों और उनके प्रदर्शन के लिये सभी को शुभकामनाएं देता हूं।' भारतीय महिला टीम ने 36 साल के लंबे अरसे बाद 2016 रियो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर इतिहास रचा था। इस समय टीम बेंगलुरु के भारतीय खेल प्राधिकरण के केंद्र में चल रहे राष्ट्रीय शिविर में तैयारियों में जुटी है।

 टीम इस प्रकार है :
  गोलकीपर : सविता
  डिफेंडर : दीप ग्रेस एक्का, निक्की प्रधान, गुरजीत कौर, उदिता
   मिडफील्डर : निशा, नेहा, सुशीला चानू पुखराम्बाम, मोनिका, नवजोत कौर, सलीमा टेटे
    फॉरवर्ड : रानी, नवनीत कौर, लालरेमसियामी, वंदना कटारिया, शर्मिला देवी।

राफेल नडाल ने टोक्यो ओलंपिक और विम्बलडन में हिस्सा नहीं लेने का किया ऐलान

संबंधित खबरें