DA Image
15 सितम्बर, 2020|3:37|IST

अगली स्टोरी

हॉकी को स्कूल पाठ्यक्रम में अनिवार्य किया जाएगा: यशोधरा राजे सिंधिया

file image of hockey stick and ball  getty images for dagoc

मध्यप्रदेश की खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा है कि स्कूल पाठ्यक्रम के एक भाग में हॉकी खेल को अनिवार्य रूप से जोड़ा जाएगा। इससे हम ना सिर्फ हॉकी को बढ़ावा देंगे बल्कि प्रदेश के कई स्कूल-कॉलेजों के बेकार पड़े परिसरों का अधोसंरचना विकास कर 'खेलो इंडिया' के तहत इसका बेहतरीन उपयोग कर सकते हैं। सिंधिया ने यह बात टी.टी. नगर स्टेडियम में मध्यप्रदेश में खेलो इंडिया की गतिविधियों की समीक्षा करते हुए कही। उन्होंने कहा कि खेलो इंडिया के तहत भारत सरकार बजट उपलब्ध कराती है और राज्य सरकार को भूमि देनी होती है। प्रदेश के विभिन्न स्कूल परिसरों का इसमें उपयोग किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण स्तर पर छिपी खेल प्रतिभाओं का चयन कर उनके खेल-कौशल को निखारने और उन्हें खेलों के पयार्प्त अवसर दिलाने के लिए स्कूल शिक्षा और खेल विभाग समन्वित सहयोग से आगे की कार्य योजना बनाएं। पैरा स्पोटर्स को बढ़ावा देने पर जोर देते हुए सिंधिया ने कहा कि प्रदेश में ज्यादा से ज्यादा पैरा खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन कर टेलेन्ट सर्च करें।

जापान के ओलंपिक संग्रहालय में प्रदर्शित की जाएगी ओलंपिक मशाल

प्रमुख सचिव, खेल एवं युवा कल्याण पंकज राग ने मध्यप्रदेश में खेलो इंडिया की जानकारी देते हुए बताया कि गांव, ब्लॉक, जिला एवं राज्य स्तर पर कुल 291 खेल अधोसंरचनाओं की मेपिंग कर चिन्हांकित किया गया है। आगामी एक साल में मेपिंग की हमारी अपनी जीआईएस/एमआईएस विकसित की जाएंगी। राज्य स्तरीय खेल मैदान संघों का गठन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जल्द ही भारत सरकार को एथलेटिक्स, शूटिंग, फुटबाल और हॉकी के रिफ्रेशर कोर्स के लिए प्रस्ताव भेजा जायेगा। साथ ही ब्लॉक स्मन्वयकों के लिए ऑनलाइन/ऑफलाइन एथलेटिक्स रिफ्रेशर कोर्स आयोजित किए जाएंगे।

उन्होंने जानकारी दी कि राज्य स्तरीय खेलो इंडिया सेन्टर के तहत तीन अलग-अलग प्रस्ताव भारत सरकार को भेजे गए हैं। वृहद् (मेगा) सेन्टर के तहत शूटिंग, हॉकी (पुरुष) तथा रोईंग खेल को शामिल किया गया है। उन्होंने बताया कि जल्द ही प्रदेश में राज्य स्तरीय खेलो इंडिया सेन्टर फॉर शूटिंग को स्थापित किया जायेगा। मध्यम (मीडियम) सेन्टर के लिए भारत सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है, जिसमें उपलब्ध खेल अधोसंरचनाओं के बेहतर उपयोग की बात कही गई है। 

'उम्मीद है अब खेल अवॉर्ड्स के लिए चेस प्लेयर्स के नाम पर होगा विचार'

खेलो इंडिया स्मॉल (छोटे) सेन्टर के लिए 25 जिलों से 14 खेलों के लिए प्रस्ताव केन्द्र सरकार को भेजा गया है। पहले चरण में पांच जिले, मुरैना में बैडमिंटन और एथलेटिक्स, सतना में बैडमिंटन और वेटलिफ्टिंग, सीहोर में फुटबॉल और वेटलिफ्टिंग, इंदौर में वेटलिफ्टिंग और कुश्ती तथा उज्जैन में शूटिंग और कुश्ती के छोटे सेन्टर शुरू किए जाएंगे।

संचालक खेल एवं युवा कल्याण पवन कुमार जैन ने बताया कि खेलो इंडिया योजना के तहत मध्यप्रदेश के कुल 90 खिलाड़ियों (42 पुरुष एवं 48 महिला) को चयनित कर एडवांस ट्रेनिंग दी गई। इसमें तीरंदाजी, एथलेटिक्स, हॉकी पुरूष एवं महिला, रोईंग तथा शूटिंग के 38 खिलाड़ियों का चयन मध्यप्रदेश राज्य स्पोर्टस अकादमियों के लिए किया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hockey to be compulsory in school curriculum says Yashodhara Raje Scindia