DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत के पाक में डेविस कप में खेलने पर सरकार फैसला नहीं कर सकती: रिजिजू

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा, भारत को पाकिस्तान में अगले महीने होने वाले डेविस कप मुकाबले में भाग लेना चाहिए या नहीं इस पर सरकार फैसला नहीं कर सकती क्योंकि यह द्विपक्षीय प्रतियोगिता नहीं है।

file image of kiren rijiju  pti

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने सोमवार को कहा कि भारत को पाकिस्तान में अगले महीने होने वाले डेविस कप मुकाबले में भाग लेना चाहिए या नहीं इस पर सरकार फैसला नहीं कर सकती क्योंकि यह द्विपक्षीय प्रतियोगिता नहीं है। भारत और पाकिस्तान के बीच एशिया ओसियाना क्षेत्र ग्रुप ए डेविस कप मुकाबला 14 और 15 सितंबर को इस्लामाबाद में होगा, लेकिन जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के कारण इस पर अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं। 

खेलमंत्री रिजिजू ने खेल एवं युवा कल्याण मंत्रालय के एक कार्यक्रम से इतर कहा, ''अगर यह द्विपक्षीय खेल प्रतियोगिता होती तो फिर भारत को पाकिस्तान से खेलना चाहिए या नहीं, यह राजनीतिक फैसला बन जाता। लेकिन डेविस द्विपक्षीय प्रतियोगिता नहीं है और इसका आयोजन एक विश्व खेल संस्था करती है।''

भाजपा में शामिल हुए बबीता फौगाट और महावीर फौगाट- Video

उन्होंने कहा, ''भारत ओलंपिक चार्टर को मानता है और उस पर उसके हस्ताक्षर हैं, इसलिए भारत सरकार या राष्ट्रीय महासंघ यह फैसला नहीं कर सकते कि भारत को इसमें भाग लेना चाहिए या नहीं।'' अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) इस मुकाबले को तटस्थ स्थल पर करवाना चाहता है, लेकिन पाकिस्तान टेनिस संघ ने रविवार को स्पष्ट कर दिया कि वह स्थल बदलने पर सहमत नहीं होगा क्योंकि इस्लामाबाद में पहले से ही तैयारियां चल रही हैं। 

पीटीएफ प्रमुख सलीम सैफुल्लाह ने पीटीआई को बताया कि महासंघ इस मुकाबले की मेजबानी इस्लामाबाद खेल परिसर में कराने के लिए सभी तरह की तैयारी कर रहा है। सैफुल्लाह ने कहा, ''हम मुकाबले की मेजबानी 14-15 सितंबर को करने के अपने शुरुआती कार्यक्रम पर टिके हुए हैं और मुझे भारतीय टीम के इस्लामाबाद में असुरक्षित महसूस करने का कोई कारण नजर नहीं आता।''

सैफुल्लाह ने कहा कि भारतीय टेनिस टीम पूरी तरह सुरक्षित रहेगी। उन्होंने कहा, ''वे चार दिन के लिए इस्लामाबाद में रहेंगे जो पूरी तरह सुरक्षित शहर है। हमने उनके होटल और आयोजन स्थल पर शीर्ष स्तर के सुरक्षा इंतजाम किए हैं। तो उनके इस्लामाबाद में खेलने में क्या समस्या है? अगर वे चाहते हैं तो हम मुकाबले के लिए दर्शकों को भी नहीं बुलाएंगे।
सैफुल्लाह ने कहा कि आईटीएफ ने मुकाबले को तटस्थ स्थान पर स्थानांतरित करने को लेकर अब तक उनसे संपर्क नहीं किया है।'' इस्लामाबाद में मुकाबले को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार कराने के लिए पीटीएफ पहले ही संबंधित मंत्रालयों के संपर्क में है।

टेनिस : राफेल नडाल और बियान्का एंड्रेस्कू ने जीता रोजर्स कप

आईटीएफ से स्थान बदलने की मांग करते हुए एआईटीए दोनों के बीच तनाव और सुरक्षा चिंताओं को कारण बताएगा। भारत की कोई भी डेविस कप टीम 1964 के बाद पाकिस्तान दौरे पर नहीं गयी तथा मुंबई में 2008 के आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज भी नहीं खेली गई हैं। 

पाकिस्तान ने 2017 के अपने पांच में से चार घरेलू मुकाबले इस्लामाबाद में खेले हैं। इस बीच उसने कोरिया, थाईलैंड, उज्बेकिस्तान और ईरान की मेजबानी की है। हांगकांग ने 2017 में पाकिस्तान का दौरा करने से इन्कार कर दिया था, जिससे पाकिस्तानी टीम को वाकओवर मिल गया था।

पाकिस्तान आखिरी बार 2016 में तटस्थ स्थल पर खेला था तब उसने कोलंबो में चीन की मेजबानी की थी। पाकिस्तान ने 2015 में अपने दोनों मुकाबले तटस्थ स्थल पर खेले थे। उसने चीनी ताइपै की तुर्की में और कुवैत की कोलंबो में मेजबानी की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Government wont have say on India s participation in Davis Cup tie in Pakistan says Kiren Rijiju