DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

FIFA WC 2018:दिल की गंभीर बीमारी को हराकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने हासिल किया मुकाम

Cristiano Ronaldo

क्रिस्टियानो रोनाल्डो एक ऐसा नाम है जिनके बिना फुटबॉल के खेल की कल्पना नहीं की जा सकती। रोनाल्डो ने बचपन में खेल की खातिर पढ़ाई तक छोड़ दी। पर, उनकी प्रतिभा पर स्कूल टीचर को बिल्कुल भरोसा नहीं था। रोनाल्डो ने उन्हें गलत साबित करने के लिए कड़ी मेहनत की ओर महान खिलाड़ी बने...

क्रिस्टियानो रोनाल्डो का जन्म पुर्तगाल के एक छोटे से आइसलैंड माड्रेला में हुआ था। उनका एक बड़ा भाई और दो छोटी बहनें हैं। रोनाल्डो के पिता रसोइया थे जबकि मां माली का काम करती थी। वह एक छोटे से कमरे में अपने तीनों भाई-बहनों के साथ रहते थे। वह जब 14 साल के हुए तब उन्हें लगा कि उनके अंदर एक अच्छा फुटबॉलर बनने की काबिलियत है। ऐसे में रोनाल्डो को मां ने सलाह दी कि वह पढ़ाई छोड़कर सिर्फ फुटबॉलर बनने पर ध्यान केंद्रित करें।

गुस्से में टीचर को गिराया
स्कूल में रोनाल्डो के खेल की काफी चर्चा होती थी, लेकिन उनकी एक टीचर को यह पसंद नहीं था। वह अकसर रोनाल्डो को खेल छोड़कर पढ़ाई करने के लिए डांटती थी। रोनाल्डो दब्बू किस्म के थे और छोटी-छोटी बातों पर रो देते थे। पर, एक दिन टीचर की डांट पर उनका पारा चढ़ गया और उन्होंने गुस्से में टीचर पर कुर्सी फेंककर मारी। टीचर ने रोनाल्डो से कहा कि वह कभी अच्छे खिलाड़ी नहीं बन सकते। उन्हें स्कूल से भी निकाल दिया गया। रोनाल्डो को यह बात चुभ गई और उन्होंने अच्छा खिलाड़ी बनने के लिए कड़ी मेहनत शुरू की।

FIFA WC 2018:रूस के 11 शहरों और 12 मैदानों में खेले जाएंगे 64 मुकाबले

दिल की बीमारी को हराया
15 साल की उम्र में रोनाल्डो दिल की गंभीर बीमारी से पीड़ित हो गए। इस बीमारी से उनका फुटबॉल खेलना बंद हो गया। रोनाल्डो का लेजर ऑपरेशन हुआ। अस्पताल से निकलने के कुछ दिन बाद ही उन्होंने ट्रेनिंग शुरू कर दी।

चैरिटी में पीछे नहीं
रोनाल्डो सालाना करोड़ों रुपये गरीब बच्चों की पढ़ाई, स्वास्थ्य और कपड़ों पर खर्च करते हैं। उन्होंने चिली में एक अस्पताल भी बनवा रहे हैं।

दुनिया के सबसे अमीर फुटबॉलर
रोनाल्डो दुनिया के सबसे अमीर फुटबॉलरों में से एक हैं। 2002 में वह 16 साल की उम्र में स्पोर्टिंग सीपी क्लब से जुड़े। 2003 में मैनचेस्टर युनाइटेड ने उन्हें अपनी टीम में शामिल किया। उनका ट्रांसफर एक अरब दस करोड़ रुपये में हुआ। 2009 में वह रियाल मैड्रिड के साथ रिकॉर्ड सात अरब रुपये में जुड़े और अब तक क्लब के लिए खेल रहे हैं।

FIFA WC 2018:दुनिया को जानिए कैसे मिला लियोनेल मेसी जैसा दिग्गज फुटबॉलर

ये खूबिया बनाती हैं असाधारण
दोनों पैरों से समान खेलने में माहिर। गेंद के साथ दुनिया के सबसे तेज फुटबॉलरों में शुमार। तकनीकी तौर पर मजबूत और ड्रिबिलिंग में सर्वश्रेष्ठ। फिटनेस में अव्वल और हेडर से गोल करने में महारत।

अभी तक रोनाल्डो का रिकॉर्ड
रोनाल्डो ने अभी तक अपने करियर में कुल 26 ट्रॉफिया जीती हैं। उन्होंने 311 गोल क्लब और 81 पुर्तगाल टीम के लिए किए हैं। 5 बार बैलन डि ऑर और 4 बार यूरोपियन गोल्ड शू अवॉर्ड जीता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:FIFA World Cup 2018 Russia Story of Cristiano Ronaldo who defeated heart disease and rise in the world of football