Hindi Newsखेल न्यूज़Dipa Karmakar becomes first Indian gymnast to win gold in Asian Senior Championships

दीपा करमाकर ने रचा इतिहास, एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय बनीं

भारतीय जिम्नास्ट दीपा करमाकर ने इतिहास रच दिया है। वह एशियन सीनियर चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय बन गई हैं। अभी तक कई खिलाड़ियों ने कांस्य पदक इस टूर्नामेंट में जीता था। 

Dipa Karmakar.jpg (Photo: PTI)
Vikash Gaur लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीMon, 27 May 2024 07:26 AM
हमें फॉलो करें

भारत की शीर्ष जिम्नास्ट दीपा करमाकर ने एक बड़ी उपलब्धि अपने नाम की है और वे देश की पहली खिलाड़ी बन गई हैं, जिन्होंने जिम्नास्टिक में देश को एशियन सीनियर चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल दिलाया है। रविवार को उन्होंने वुमेन वॉल्ट में ये पदक अपने नाम किया। दीपा करमाकर का वॉल्ट फाइनल में फाइनल के आखिरी दिन औसत 13.566 का था। ये टूर्नामेंट उज्बेकिस्तान की राजधानी ताशकंद में खेला गया।  

30 वर्षीय दीपा करमाकर ने फाइनल में नोर्थ कोरिया की किम सोन ह्यांग और जो क्योंग ब्योल को हराया। ह्यांग का औसत स्कोर 13.466 था और ब्योल का स्कोर 12.966 का। दोनों ने क्रमशः सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया। 2016 रियो ओलिंपिक खेलों में वॉल्ट फाइनल में चौथे स्थान पर रहीं दीपा ने इससे पहले 2015 में इसी स्पर्धा में कांस्य पदक जीता था। हालांकि, पहली बार किसी ने गोल्ड मेडल जीता था। 

आशीष कुमार ने 2015 एशियाई चैंपियनशिप में व्यक्तिगत फ्लोर एक्सरसाइज में कांस्य पदक अर्जित किया था। प्रणति नायक ने 2019 और 2020 संस्करण में वॉल्ट स्पर्धा में कांस्य पदक भी जीते, लेकिन दीपा करमाकर ने ना सिर्फ अपने पदक का रंग बदला, बल्कि इसे सीधे स्वर्ण पदक में तब्दील किया। भारतीय खेल प्राधिकरण ने भी दीपा करमाकर की तारीफ करते हुए उनको बधाई दी है। साई ने ट्वीट किया, "एशियाई जिम्नास्टिक चैंपियनशिप में इतिहास रचा गया। प्रेरणादायक, दीपा करमाकर! #गोल्ड पर बधाई।"

त्रिपुरा की जिम्नास्ट ने एक उल्लेखनीय उपलब्धि भी हासिल की। तुर्की के मेर्सिन में 2018 एफआईजी विश्व कप में वॉल्ट में स्वर्ण पदक, जिससे वह विश्वव्यापी जिम्नास्टिक प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय बन गईं। डोपिंग के कारण 21 महीने के निलंबन के बाद इस साल प्रतियोगिता में वापसी करने वाली दीपा पेरिस ओलंपिक की दौड़ से बाहर हो गई हैं। वह शुक्रवार को 46.166 के स्कोर के साथ ऑल-राउंड श्रेणी में 16वें स्थान पर रहीं।

एशियाई चैम्पियनशिप अंतिम ओलिंपिक क्वॉलिफिकेशन राउंड थी। वह अप्रैल में दोहा में एफआईजी उपकरण विश्व कप में वॉल्ट फाइनल में चौथे स्थान पर रही। काहिरा विश्व कप (15-18 फरवरी) में पांचवें स्थान पर रहने के बाद, वह पहले कॉटबस, जर्मनी (22-25 फरवरी) में विश्व कप में शामिल नहीं हुई थीं। यही कारण है कि वह पेरिस ओलिंपिक नहीं खेल पाएंगी। 

लेटेस्ट   Hindi News,  लोकसभा चुनाव 2024,  बॉलीवुड न्यूज,  बिजनेस न्यूज,  टेक,  ऑटो,  करियर ,और   राशिफल, पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।

ऐप पर पढ़ें