DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेल रत्न जीतने वाली पहली महिला पैरा-एथलीट बनी दीपा मलिक, पिता को समर्पित किया अवॉर्ड

दीपा मलिक खेल रत्न हासिल करने वाली पहली महिला पैरा-एथलीट बन गई हैं। भारतीय सरकार ने शनिवार को दीपा को देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड देने का फैसला किया है।

indian para-athlete deepa malik  leena dhankhar  ht photo

दीपा मलिक खेल रत्न हासिल करने वाली पहली महिला पैरा-एथलीट बन गई हैं। भारतीय सरकार ने शनिवार को दीपा को देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड देने का फैसला किया है। इसी के साथ दीपा इस अवॉर्ड को हासिल करने वाली दूसरी पैरा-एथलीट बन गई हैं। दीपा ने रियो पैरालम्पिक-2016 में शॉट पुट (गोलाफेंक) में रजत पदक हासिल किया था। इसके अलावा वह एशियाई खेलों में भालाफेंक और शॉटपुट में कांस्य जीत चुकी हैं। 

दीपा सर्वोच्च खेल सम्मान पाने वाली देश की दूसरी पैरा एथलीट हैं। इससे पहले भाला फेंक एथलीट देवेंद झाझरिया को 2017 में इस सम्मान से नवाजा गया था। दीपा के अलावा भारत के दिग्गज पुरुष पहलवान बजरंग पुनिया को भी खेल रत्न अवॉर्ड से नवाजा जाएगा। इनके अलावा भारतीय क्रिकेट टीम के हरफनमौला खिलाड़ी रवींद्र जडेजा और महिला क्रिकेट टीम की खिलाड़ी पूनम यादव को अर्जुन अवॉर्ड देने का फैसला किया गया है। 

बैंडमिंटन खिलाडी़ प्रणय ने पुरस्कार चयन प्रक्रिया पर उठाए सवाल, लगाए गंभीर आरोप

मेरा सम्मान 'सबका साथ, सबका विकास' का सही उदाहरण
इस साल खेल के क्षेत्र में भारत का सर्वोच्च सम्मान-राजीव गांधी खेल रत्न जीतने वाली पहली महिला पैरा-एथलीट दीपा मलिक ने यह सम्मान अपने पिता बाल कृष्णा नागपाल को समर्पित किया है और साथ ही कहा है कि उनका यह सम्मान सही मायने में 'सबका साथ-सबका विकास' है। उनसे पहले देवेंद्र झाझरिया को 2017 में खेल रत्न मिला था। 

पीएम मोदी का किया जिक्र
खेल रत्न से नवाजे जाने की घोषणा के बाद दीपा ने आईएएनएस से कहा, “मुझे ऐसा लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भावना 'सबका साथ, सबका विकास' पूरे देश में आ गई है। मैं ज्यूरी सदस्यों और खेल जगत की शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने पैरा-एथलीटों की मेहनत, उनके द्वारा जीते गए पदकों का सम्मान किया। यह पूरे पैरा-मूवमेंट के लिए मनोबल बढ़ाने वाली बात है। यह अवॉर्ड टोक्यो पैरालम्पिक से पहले खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का काम करेगा।”

भारतीय पैरालम्पिक समिति को कहा शुक्रिया
इस साल मार्च में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने वाली 49 साल की दीपा ने कहा कि यह अवॉर्ड सिर्फ उनके लिए नहीं बल्कि पूरे पैरा-एथलीट समुदाय के लिए है। दीपा ने कहा, “मैं सिर्फ निजी तौर पर नहीं बल्कि पूरी पैरा-एथलीट कम्यूनिटी के लिए खुश हूं। यह पदक पूरी दिव्यांग कम्यूनिटी के लिए है। मैं साथ ही भारतीय पैरालम्पिक समिति की भी शुक्रगुजार हूं, क्योंकि आज मैं जो भी हूं उन्हीं के बदौलत हूं। साथ ही अलग-अलग समय पर मेरे दोस्त, साथी खिलाड़ी, कोच की भी शुक्रगुजार हूं। मैं इस बात से खुश हूं कि मैं नई बच्चियों के लिए एक प्रेरणा स्थापित कर सकी।”

जसपाल राणा को द्रोणाचार्य न मिलने पर चयन पैनल पर बरसे अभिनव बिंद्रा

पिता को समर्पित किया अवॉर्ड
उन्होंने कहा, “मैं इस अवॉर्ड को अपने पिता को समर्पित करती हूं क्योंकि वह इस तरह के सम्मान का इंतजार कर रहे थे। मैंने उन्हें पिछले साल खो दिया। आज वह होते तो मुझे सर्वोच्च खेल सम्मान से सम्मानित होते हुए देखकर बहुत खुश होते।”

दीपा अगले साल टोक्यो पैरालम्पिक-2020 में नहीं खेलेंगी क्योंकि उनकी कैटेगरी टोक्यो पैरालम्पिक खेलों में शामिल नहीं हैं। इसी कारण उनका अगला लक्ष्य 2022 में बर्मिंघम में होने वाला राष्ट्रमंडल खेल और इसी साल चीन के हांगजोउ में होने वाला एशियाई खेल है। 

बताया पैरा एथलीटों का संघर्ष
अपने सफर और पैरा-एथलीटों के सामने आने वाली मुश्किलों को लेकर दीपा ने कहा, 'शुरुआती दिनों में काफी मुश्किलें होती थीं। मैं 2006 से खेल रही हूं। हम दिव्यांग लोगों में चीजें काफी मुश्किल होती हैं क्योंकि कभी टूर्नामेंट्स में हमारी कैटेगरी होती है, कभी नहीं होती। ज्याद चुनौती इस बात की आती है कि कभी हमारी कैटेगरी आती है, कभी नहीं आती। कभी हमारा इवेंट बदल दिया जाता है। हमें सीधे एंट्री नहीं मिलती है। हम कोटा के आधार पर जा पाते हैं, क्योंकि इतने पैरा-एथलीटों को संभालना मुश्किल होता है।”

उन्होंने कहा, “अगर एथलेटिक्स में देखा जाए तो सिर्फ एक 100 मीटर की रेस होती है लेकिन पैरा-एथलीट में 100 मीटर में 48 कैटेगरी में रेस होती हैं। इसलिए सभी लोगों को संभालना मुश्किल होता है और इसलिए हमारा चयन लटक जाता है और दुनिया सोचती है कि हमारे में प्रतिस्पर्धा नहीं है, जो कि गलत धारणा है। अब हालांकि इस चीज में बदलाव हो रहा है, जो अच्छा है। बहुत खुशी है कि खेल जगत ने इस बात को समझा और हमारे खेलों को समझने को तवज्जो दी है। इतनी रिसर्च के बाद फैसला लिया है, जो काबिलेतारीफ है क्योंकि मैंने अखबार में पढ़ा है कि मेरे नंबर सबसे ज्यादा थे। इसका मतलब है कि हमारे पदकों की पहचान उन्होंने समझी।”

अंतरराष्ट्रीय पैरालम्पिक समिति ने दीपा को सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी का खिताब दिया है, जिसे लेने वह अक्टूबर में जर्मनी में होने वाले समारोह में जाएंगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Deepa Malik becomes first female para athlete to win Khel Ratna