DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बर्मिंघम कॉमनेल्थ 2022 खेलों में शूटिंग को आखिरी इनकार

राष्ट्रमंडल खेलों में निशानेबाजी हमेशा से भारत का मजबूत पक्ष रहा है। गोल्ड कोस्ट में पिछले खेलों में भारत ने निशानेबाजी में सात स्वर्ण सहित 16 पदक जीते थे।

louise martin  president of comm games federation getty images

भारत की बहिष्कार की धमकी के बावजूद राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (CGF) की प्रमुख लुईस मार्टिन ने कहा कि निशानेबाजी 2022 बर्मिंघम खेलों का हिस्सा नहीं होगी। यह 1974 के बाद पहला मौका होगा जब निशानेबाजी को राष्ट्रमंडल खेलों में जगह नहीं मिलेगी, लेकिन सीजीएफ अध्यक्ष ने कहा कि निशानेबाजी कभी इन खेलों का अनिवार्य हिस्सा नहीं थी।
मार्टिन ने ब्रिटेन के 'डेली टेलीग्राफ से कहा, ''एक खेल को इन खेलों का हिस्सा बनने का अधिकार हासिल करना होगा।''

उन्होंने कहा, ''निशानेबाजी कभी अनिवार्य खेल नहीं रहा। हमें इस पर काम करना होगा लेकिन निशानेबाजी खेलों का हिस्सा नहीं होगा। हमारे पास अब कोई जगह नहीं बची है।'' राष्ट्रमंडल खेलों में निशानेबाजी हमेशा से भारत का मजबूत पक्ष रहा है। गोल्ड कोस्ट में पिछले खेलों में भारत ने निशानेबाजी में सात स्वर्ण सहित 16 पदक जीते थे।

भारत के बाद अब ऑस्ट्रेलिया भी कर सकता है बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेल-2022 का बहिष्कार

इस कदम का विरोध करते हुए भारत ने 2022 खेलों के बहिष्कार की धमकी दी थी। भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने इस संबंध में खेल मंत्री किरेन रिजिजू से स्वीकृति मांगी है। खबर के अनुसार बर्मिंघम ने निशानेबाजी की दो स्पर्धाओं के आयोजन की पेशकश की थी, लेकिन अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी खेल महासंघ (आईएसएसएफ) ने इसे ठुकरा दिया। आईएसएसएफ चाहता है कि निशानेबाजी को पूर्ण रूप से खेलों में शामिल किया जाए। 

सीजीएफ सीईओ डेविड ग्रेवेमबर्ग ने कहा कि निशानेबाजी को बाहर करना खेलों की नियामक ईकाई के संविधान के खिलाफ नहीं है। उन्होंने कहा, ''हमने सब कुछ अपने संविधान के अनुरूप किया है। निशानेबाजी हमेशा से वैकल्पिक खेल था और खेल कार्यक्रम में बदलाव स्वाभाविक है।''

उन्होंने इनसाइडदगेम्स डाट बिज वेबसाइट से कहा, ''निशानेबाजी के समर्थन का आईओए का लंबा इतिहास रहा है और उस लिहाज से चीजों को स्पष्ट करने की जरूरत है।'' उन्होंने भारत से इन खेलों में भाग लेने की अपील की। 

सात्विक - चिराग बैडमिंटन विश्व रैंकिंग में टॉप 10 से बाहर

ग्रेवेमबर्ग ने कहा, ''भारत राष्ट्रमंडल का अहम सदस्य है और हम चाहते हैं कि भारतीय खिलाड़ी इन खेलों में भाग लें। बर्मिंघम में काफी तादाद में भारतीय हैं जो उनकी हौसलाअफजाई करेंगे।''

बर्मिंघम 2022 के मुख्य कार्यकारी इयान रीड ने दावा किया कि आयोजन भारत की चिंता समझते हैं और लगातार भारतीय अधिकारियों से बात कर रहे हैं ताकि भारत इन खेलों का बहिष्कार नहीं करे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CGF chief on shooting exclusion from 2022 CWG We have no space anymore