Boris Becker asks Mahesh Bhupati Sania Mirza and Leander Paes to come together for the sake of Indian Tennis Future - 'भारतीय टेनिस की भलाई के लिए मतभेद भूलकर साथ आएं भूपति, सानिया और पेस' DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'भारतीय टेनिस की भलाई के लिए मतभेद भूलकर साथ आएं भूपति, सानिया और पेस'

दिग्गज टेनिस खिलाड़ी बोरिस बेकर को लगता है कि भारतीय टेनिस के तीनों बड़े खिलाड़ियों लिएंडर पेस, महेश भूपति और सानिया मिर्जा को अपने मतभेद भुलाकर देश में इस खेल की बेहतरी के लिए साथ काम करना होगा।

Boris Becker.jpg

दिग्गज टेनिस खिलाड़ी बोरिस बेकर को लगता है कि भारतीय टेनिस के तीनों बड़े खिलाड़ियों लिएंडर पेस, महेश भूपति और सानिया मिर्जा को अपने मतभेद भुलाकर देश में इस खेल की बेहतरी के लिए साथ मिलकर काम करना होगा। पिछले तीन दशक से एकल वर्ग में एक भी विश्व स्तरीय खिलाड़ी नहीं देने वाले भारत में इस खेल में सुधार के बारे में बात करते हुए बेकर ने कहा कि तीनों (युगल विशेषज्ञों) को टेनिस को आगे ले जाने के लिए मिलकर काम करना होगा। जर्मनी के इस दिग्गज खिलाड़ी ने पीटीआई से कहा, 'टेनिस में भारत की सफलता का लंबा इतिहास रहा है। आपके पास बड़ी संख्या में खिलाड़ियों का पूल होना चाहिए ताकि उसमें से कोई आगे जाकर खिताब जीत सके। मौजूदा समय में मैं ऐसा होता नहीं देख रहा हूं। इसके साथ ही मैं यह भी कहूंगा कि हमें थोड़ा इंतजार करना चाहिए।'

'भारतीय टेनिस की भलाई के लिए साथ आएं भूपति, सानिया और पेस'     
उन्होंने कहा, 'भारत में टेनिस काफी लोकप्रिय है। शायद सानिया, भूपति और लिएंडर पेस जैसे खिलाड़ियों को कुछ करने की जरूरत है। मुझे पता है उनके बीच विवाद है लेकिन टेनिस के स्तर को सुधारने का यही एक तरीका है। जर्मनी और फ्रांस में भी ऐसा ही होता है और पूर्व खिलाड़ी खेल प्रशासन में जाते हैं।' बेकर ने इस मौके पर लय में चल रहे नोवाक जोकोविच की तारीफ करते हुए कहा कि वह रोजर फेडरर के 20 ग्रैंडस्लैम खिताब के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ सकते हैं। उन्होंने कहा कि इस सर्बियाई खिलाड़ी के पास अगले दो सत्र में यह उपलब्धि हासिल करने का मौका होगा। चोट से वापसी के बाद जोकोविच ने पिछले तीनों ग्रैंडस्लैम अपने नाम किए हैं, जिसमें ऑस्ट्रेलियाई ओपन का रिकॉर्ड सातवां खिताब भी शामिल है।

Read Also: सानिया मिर्जा ने पुलवामा आतंकी हमले पर लिखा संदेश, लेकिन हो गईं ट्रोल

'नोवाक जोकोविक तोड़ सकते हैं रोजर फेडरर के 20 ग्रैंडस्लैम का रिकॉर्ड'
फेडरर 37 साल के हो चुके हैं लेकिन वह अभी भी दमदार तरीके से खेल रहे हैं। ग्रैंडस्लैम खिताब 17 बार जीतने वाले राफेल नडाल भी चोट से उबरने के बाद ऑस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल में पहुंचे। उन्होंने लॉरेस विश्व पुरस्कार के मौके पर कहा, 'इस बात की संभावना है कि फेडरर के रिकॉर्ड को जोकोविच तोड़ दें लेकिन इसके लिए उन्हें काफी मेहनत करनी होगी। यह सही है कि उन्होंने लगातार तीन ग्रैंडस्लैम में जीत दर्ज की है लेकिन उससे पहले दो साल एक भी खिताब नहीं जीत सके थे। बेकर 2014 से 2016 तक नोवाक जोकोविच के कोच भी रहे थे जिस दौरान उन्होंने छह ग्रैंडस्लैम खिताब जीते।

Read Also: पुलवामा हमला: सानिया मिर्जा ने लिखा संदेश, कहा- सैनिक ही हमारे असली हीरो

सभी खेलों से जुड़े समाचार पढ़ें सबसे पहले Live Hindustan पर। अपने मोबाइल पर Live Hindustan पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा न्यूज एप। और देश-दुनिया की हर खबर से रहें अपडेट।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Boris Becker asks Mahesh Bhupati Sania Mirza and Leander Paes to come together for the sake of Indian Tennis Future