DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

BWF WC 2019: सेमीफाइनल में हारकर भी इतिहास रच गए बी साई प्रणीत

बी साई प्रणीत का बीडब्ल्यूएफ विश्व चैम्पियनशिप में शानदार सफर सेमीफाइनल में समाप्त हो गया। उन्हें एक तरफा मुकाबले में गत चैम्पियन केंटो मोमोटा से हारकर कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

b-sai-praneeth jpg

बी साई प्रणीत का बीडब्ल्यूएफ विश्व चैम्पियनशिप में शानदार सफर सेमीफाइनल में समाप्त हो गया। उन्हें शनिवार को एक तरफा मुकाबले में गत चैम्पियन केंटो मोमोटा से हारकर कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। प्रणीत का आक्रामक खेल भी फॉर्म में चल रहे मोमोटा के डिफेंस के सामने नहीं टिक सका और 41 मिनट तक चले मुकाबले में वह जापान के नंबर एक खिलाड़ी से 13-21 8-21 से हार गए। इस हार के बावजूद प्रणीत ने शानदार उपलब्धि अपने नाम की। वह 36 साल में इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में पदक जीतने वाले पहले भारतीय पुरूष खिलाड़ी बन गए। प्रकाश पादुकोण ने 1983 चरण में विश्व चैम्पियनशिप के पुरूष एकल में कांस्य पदक हासिल किया था।

प्रणीत ने हालांकि अच्छी शुरुआत कर 5-3 की बढ़त बनाई। लेकिन मोमोटा ने ब्रेक तक इसे 11-10 कर दिया। जल्द ही चार अंक जुटाकर 15-10 से आगे हो गए। प्रणीत ने इसके बाद कई अनफोर्स्ड गलतियां की जिससे मोमोटा ने अंतर 18-12 कर दिया। प्रणीत की गलती से जापानी खिलाड़ी ने पहला गेम अपने नाम किया। दूसरे गेम में दोनों 2-2 की बराबरी पर थे लेकिन भारतीय खिलाड़ी मोमोटा के तेज तर्रार शॉट का जवाब नहीं दे सका और 2-9 से पीछे हो गया। ब्रेक तक मोमोटा 11-3 से आगे थे। उन्होंने जल्द ही इसे 15-5 कर दिया। प्रणीत के बैकहैंड से मोमोटा ने 19-8 बढ़त बना ली और जल्द ही जीत हासिल की।

Read Also: बैडमिंटन विश्व चैम्पियनशिप: स्वर्णिम इतिहास रचने से एक कदम दूर पीवी सिंधु

सभी खेलों से जुड़े समाचार पढ़ें सबसे पहले Live Hindustan पर। अपने मोबाइल पर Live Hindustan पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा न्यूज एप। और देश-दुनिया की हर खबर से रहें अपडेट।    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:B Sai Praneeth Dream run at the BWF World Championships 2019 ends with a SF loss to to seed Kento Momota thus brings India first Mens Single medal in last 36 years