DA Image
30 जून, 2020|3:09|IST

अगली स्टोरी

झारखंड में सब्जी बेचने को मजबूर थीं एथलीट गीता कुमारी, सीएम सोरेन ने की मदद

geeta kumari   dc ramgarh twitter

झारखंड की एथलीट गीता कुमारी को आर्थिक परेशानियों के कारण रामगढ़ जिले की गलियों में सब्जी बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के हस्तक्षेप के बाद हालांकि गीता को रामगढ़ जिला प्रशासन से 50,000 रुपये और एथलेटिक्स करियर को आगे बढ़ाने के लिए 3,000 रुपये का मासिक वजीफा पाने में मदद मिली। 

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को टि्वटर के जरिये जानकारी मिली कि गीता वित्तीय समस्याओं के कारण सड़क किनारे सब्जी बेचने को मजबूर हैं। मुख्यमंत्री ने रामगढ़ के उपायुक्त को कुमारी की आर्थिक रूप से सहायता करने का निर्देश दिया ताकि वह अपने एथलेटिक्स करियर को आगे बढ़ा सके।

आइसोलेशन में रहने के बावजूद क्लब में डांस कर रहे थे एलेक्जेंडर ज्वेरेव, VIDEO सामने आने के बाद हो रही आलोचना

एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि रामगढ़ के उपायुक्त (डीसी) संदीप सिंह ने सोमवार को गीता को 50,000 रुपये का चेक दिया और एथलीट को 3,000 रुपये मासिक वजीफा देने की भी घोषणा की।

खेल की दुनिया में एथलीट की सफलता की कामना करते हुए उपायुक्त ने कहा, ''रामगढ़ में कई खिलाड़ी हैं, जो देश के लिए सफलता हासिल करने में सक्षम हैं, और प्रशासन यह सुनिश्चित करेगा कि उन्हें समर्थन मिले।''

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी और अतनु दास आज बंधेंगे शादी के बंधन में

गीता के चचेरे भाई धनंजय प्रजापति ने कहा, ''वह सब्जी बेचने के साथ हजारीबाग जिले के आनंद कॉलेज में बीए अंतिम वर्ष की छात्रा है। उसका परिवार आर्थिक रूप से कमजोर है और अब प्रशासन की मदद मिलने से वह खुश है।''

विज्ञप्ति के मुताबिक गीता ने राज्य स्तर पर चलने वाली प्रतियोगिताओं में आठ स्वर्ण पदक हासिल किए है। उन्होंने कोलकाता में आयोजित प्रतियोगिताओं में एक रजत पदक और एक कांस्य पदक जीता था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Athlete forced to sell vegetables in Jharkhand