अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

HOCKEY: भारतीय कोच होने से टीम को मिला बड़ा फायदा, जानिए कैसे

Indian Hockey team

भारतीय हॉकी टीम के सीनियर खिलाड़ियों सरदार सिंह और मनप्रीत सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय टीम का मुख्य कोच भारतीय होने से अब बातचीत को लेकर कोई दिक्कत नहीं होती है और रणनीतिक तौर पर हरेंद्र सिंह किसी विदेशी कोच से कम नहीं हैं। हरेंद्र को मई में हॉकी टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया गया था। उनके रहते हुए भारतीय टीम पिछले महीने चैंपियन्स ट्रॉफी में लगातार दूसरे साल उप-विजेता रही थी।

सरदार ने कहा, 'मुझे अब भी याद है कि हरेंद्र पाजी ने 15-16 साल पहले मुझे राष्ट्रीय शिविर में बुलाया था। हम लंबे समय से एक दूसरे को जानते हैं। जब वो 2009 में जोस ब्रासा के साथ सहायक कोच थे तब भी मैं खेला था।' उन्होंने कहा, 'एक भारतीय कोच के साथ काम करना अलग तरह का अहसास है। हम उनके साथ कुछ भी चर्चा कर सकते हैं। वो हमें खुलकर सलाह देते हैं और जानते हैं कि सीनियर खिलाड़ी होने के कारण हम अपना खेल पूरी तरह से नहीं बदल सकते हैं।'

'भारतीय कोच होने से मिला टीम को फायदा'

अभ्यास के दौरान बात समझाने के लिए कोच के पास समय होता है लेकिन विदेशी कोच की दो क्वॉर्टर के बीच दो मिनट के ब्रेक के दौरान सलाह को समझना मुश्किल होता है। यहां पर हरेंद्र ने बड़ा अंतर पैदा किया। सरदार ने कहा, 'अगर आप देखोगे तो उन्होंने महिला टीम और जूनियर टीम के साथ भी अच्छे परिणाम दिए हैं। जूनियर टीम ने विश्व कप उनके रहते हुए ही जीता। उन्होंने सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षकों के साथ काम किया है। उनके आने से सबसे बड़ा सकारात्मक पहलू यह रहा कि अब हिन्दी में बातचीत करते हैं।'

2018 Asian Games: भारतीय दल के ध्वजवाहक होंगे एथलीट नीरज चोपड़ा, आईओए ने की घोषणा

Asian Games 2018: साल 2010 के बाद भारतीय मुक्केबाजों को नहीं मिला गोल्ड, इस बार पूरी उम्मीद

उन्होंने कहा, 'विदेशी कोच के साथ अगर आप दो मिनट के ब्रेक के दौरान कोई एक प्वॉइंट भूल जाओ तो ये खिलाड़ियों के दिमाग में भ्रम पैदा कर सकता है। कोच बाहर से खेल का आकलन कर रहे होते हैं कि और वो अपनी भाषा में आपको सही तरह से समझा सकता है। आपके पास समय कम होता है और इसलिए ऐसी भाषा जिसे सभी समझते हैं से काफी मदद मिली।' सरदार के साथी मनप्रीत ने भी उनका समर्थन किया।

शानदार कोच हैं हरेंद्र पाजीः मनप्रीत

मनप्रीत ने कहा, 'जब भी नया कोच आता है तो उसे यह सुनिश्चित करना होता है कि हम खेल की अपनी शैली नहीं बदलें। हमारी ताकत आक्रमण और जवाबी हमला करना है। हरेंद्र पाजी जानते हैं कि कैसे एसवी सुनील और आकाशदीप जैसे तेजतर्रार फॉरवर्ड का कैसे उपयोग किया जाए।' उन्होंने कहा, 'वो बेहद सकारात्मक व्यक्ति हैं। वह कम समय में सही चीजें कहते हैं। उन्होंने बेहतरीन प्रशिक्षकों के साथ काम किया है लेकिन अब भी कहते हैं कि वो सीख रहे हैं।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:asian games 2018 indian coach is good for team feels senior hockey player sardar singh