DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Winter Olympics Roundup: खराब मौसम के बीच खिलाड़ियों का संघर्ष जारी

‪‪2018 Winter Olympics

शीतकालीन ओलंपिक खेलों के दौरान तेज हवाओं से खिलाड़ियों के लिए चुनौतीपूर्ण माहौल के बीच अमेरिका की जैमी एंडरसन ने सोमवार को महिलाओं की स्लोपस्टाइल स्पर्धा का गोल्ड मेडल अपने नाम किया। तेज हवा के कारण इस स्पर्धा में भाग लेने वाली ज्यादातर खिलाड़ी कंट्रोल नहीं रख पायीं और डेक से टकरा गई, जिसमें खुद जैमी भी शामिल थीं। कई खिलाड़ियों ने यहां के खराब हालात की शिकायत भी की।

इस प्रतियोगिता में कनाडा की लौरी ब्लोइन को सिल्वर और फिनलैंड की एन्नी रूकाजार्वी को ब्रोन्ज मेडल मिला। इससे पहले यहां खराब मौसम के कारण कुछ स्पर्धाओं को टाल दिया गया। अंतरराष्ट्रीय स्की महासंघ (एफआईएस) ने भी माना की हालात चुनौतीपूर्ण हैं लेकिन उन्होंने खेल को जारी रखने के फैसले का बचाव किया। उन्होंने कहा कि एफआईएस की कोशिश होती है कि खिलाड़ी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करे लेकिन बाहर खेले जाने वाले खेलों में कई बार खिलाड़ियों को हालात से सामंजस्य बैठाना पड़ता है।

Winter Olympics Roundup: 34वें स्थान पर रहे केशवन, अमेरिका को मिला पहला गोल्ड

Winter Olympics 2018: भूकंप और तेज हवाओं की वजह से खतरे में विंटर ओलंपिक

पुरुषों की फ्रीस्टाइल मोगुल्स स्पर्धा को विश्व के नंबर एक खिलाड़ी मिखाएल किंग्सबरी ने अपने नाम कर कनाडा को दिन का दूसरा गोल्ड मेडल दिलाया। इस स्पर्धा में ऑस्ट्रेलिया के मैट ग्राहम को सिल्वर और जापान के दाएची हारा को ब्रोन्ज से संतोष करना पड़ा। इससे पहले कनाडा ने आइस डांस के सितारे तेस्सा वर्चे और स्कॉट मोएर की युगल जोड़ी के शानदार प्रदर्शन की बदौलत शीतकालीन ओलंपिक में अहम माने जाने वाले फिगर स्केटिंग के टीम स्पर्धा का गोल्ड जीता। इस स्पर्धा में रूस (ओएआर) को सिल्वर जबकि अमेरिका को ब्रोन्ज मेडल मिला।

बाइथलॉन (10 किलोमीटर) की महिलाओं की स्पर्धा में जर्मनी की लौरा दाहल्मेइयर ने गोल्ड मेडल जीता जो इन खेलों में उनका दूसरा गोल्ड है। बाइथलॉन (12.5 किलोमीटर) के पुरुषों के वर्ग का स्वर्ण फ्रांस के मार्टिन फोरसेड ने जीता।

शीतकालीन ओलंपिक में नोरोवायरस के मामले 200 के करीब पहुंचे

शीतकालीन ओलंपिक के आयोजकों ने सोमवार को बताया कि नोरोवायरस को रोकने की तमाम कोशिशों के बाद भी इसकी चपेट में आने वाले लोगों की संख्या लगभग 200 तक पहुंच गई। उन्होंने बताया की इसके 17 नए मामले सामने आये हैं, जिससे पीड़ितों की संख्या 194 हो गई है। इसमें से 147 मरीजों को अब आम मरीजों के बीच रखा गया है।

पिछले सप्ताह जब इस वायरस का मामला पहली बार सामने आया था तो लगभग 1200 सुरक्षाकर्मियों को आम लोगों से अलग रखा गया था और उनकी जगह सेना के सैकड़ों जवानों को लगाया गया था। इस वायरस का प्रसार दूषित पानी और खाने से होता है जिसमें मरीजों को उल्टी और दस्त की परेशानी होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:2018 Winter Olympics Wild winds wreak havoc in Pyeongchang